17 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में कुल 4852 सांसद और एमएलए वोट देंगे। लेकिन इनमें से तकरीबन 33 प्रतिशत यानी कुल 1,581 सदस्य आपराधिक पृष्ठभूमि के है। इन सदस्यों के खिलाफ किसी न किसी तरह का कोई आपराधिक मामला दर्ज है।

एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक, 1581 में से कुछ जन-प्रतिनिधियों के खिलाफ तो बलात्कार से लेकर हत्या तक के संगीन आरोप है। ऐसे कुल 20 प्रतिशत सदस्य है जिनका गंभीर आपराधिक रिकॉर्ड है।

लोकसभा में लगभग 34 प्रतिशत, राज्यसभा में 17 प्रतिशत सांसदों और देश की सभी विधानसभाओं में 33 प्रतिशत विधायकों ने चुनावों से पहले दिए शपथ पत्र में खुद के खिलाफ आपराधिक मामलों की घोषणा की है। आरजेडी से लेकर भाजपा, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस के नेता भी इस लिस्ट में है।

एक और आंकड़े के अनुसार, देश के 71 प्रतिशत सांसद करोड़पति हैं ।

Loading...
loading...