योगीराज के शुरुआती दो महीनों में अपराध के सभी रिकॉर्ड टूट गए हैं, इसकी पुष्टि खुद योगी सरकार के आधिकारिक दस्तावेज करते हैं।

सदन मे दी जानकारी के अनुसार, 15 मार्च से 9 मई के बीच 803 बलात्कार, 729 हत्याएं ,799 लूट ,2682 अपहरण और डकैती की 60 घटनाएं हुई हैं।

योगी सरकार के शुरुआती दो महीने में ही अपराध की सारी सीमाएं पार हो गई हैं, इससे उत्तर प्रदेश में दहशत का माहौल है।

रामराज्य का वादा करके शासन में आए योगी सरकार के शुरुआती 2 महीने में जिस तरह से हत्या, बलात्कार और लूटपाट की घटनाएं हुई हैं, वो अभूतपूर्व हैं।

सपा की ओर से विधानसभा सदस्य शैलेंद्र यादव ललई ने जब इस मुद्दे को उठाते हुए ,एक निश्चित अवधि के दौरान हुई आपराधिक वारदात की जानकारी मांगी, तो जवाब में मंत्री ने ये तमाम आंकड़े बताए। साथ ही उन्होंने कहा कि 67.11 फीसदी मामलों में कार्यवाई की गई। जिसमें से बलात्कार के मामलों में 71.12 फीसद, अपहरण के मामले में 52.23 फीसद और डकैती के मामले में 67.05 फीसद।

हालांकि जब सपा सदस्य पारसनाथ यादव ने इसी अवधि के दौरान पिछली सरकार और इस सरकार के शासनकाल के तुलनात्मक आंकड़े मांगे तो मंत्री इसे उपलब्ध नहीं करा पाए।

उत्तर प्रदेश के संसदीय कार्य मंत्री का कहना है कि हमारी सरकार अपराध रोकने के लिए तत्पर है और कानून तोड़ने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

साभार- द वायर हिन्दी

Loading...
loading...