गुजरात चुनाव जीतने के लिए भारतीय जनता पार्टी साम-दंड सब लगा देना चाहती है। इसलिए शायद वह बार-बार राजनीति में भाषा की मर्यादा भूलने की कोशिश कर रही है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के सोमनाथ मंदिर जाने पर नाना का मंदिर कहने वाली प्रधानमंत्री मोदी की काफी आलोचना सोशल मीडिया पर की गई। कांग्रेस ने भी कई जगह आपत्ति दर्ज की।

लेकिन आज तो भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ऐसा कुठ कह दिया कि, जिसे एक राष्ट्रीय शर्म भी कहा जाए तो कम होगा।

अमित शाह ने गिर में एक जनसभा संबोधित करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को नमूना कह दिया।

वीडियो जारी करते हुए एबीपी न्यूज ने इसे ना विवादित लिखा, ना शर्मनाक कहने की हिम्मत जुटाई। बयान से ज्यादा मीडिया की चाटुकारिता सवाल खड़े कर रही है।

मालिक झुकने को बोलता है लेकिन भारतीय मीडिया तलवे चाटने लगती है। यह काफी शर्मनाक है।

आपको बता दें कि, गुजरात में 22 सालों से भाजपा सत्ता संभाले हुए है लेकिन इस चुनाव में नाराज पाटीदारों और दलितों की वजह से बैकफुट पर नजर आ रही है। इसलिए कभी हिंदुत्व तो कभी पूर्व कांग्रेस शासनकाल के राजनेताओं पर आरोप लगाने में पीछे नहीं हट रही है।

Loading...
loading...