देश में फैले अराजकता के इस माहौल में भीड़ ने फिर से एक बार ऐसी घटना को अंजाम दिया है जिससे इंसानियत शर्मिंदा हो जाए।

पहले अखलाक की हत्या , फिर पहलू खान की और चलती ट्रेन में जुनैद की हत्या के बाद अब झारखंड में कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है । जहां हजारों की भीड़ इकट्ठा होकर 55 वर्षीय उस्मान अंसारी को मारते-पीटते हुए उनके घर जला देती है क्योंकि उनके घर के सामने मरी हुई गाय पाई जाती है।

झारखंड के रांची से लगभग 200 किलोमीटर दूर स्थित एक गांव में उस्मान अंसारी दूध की डेरी चलाते हैं । उनके घर के सामने मरे हुए मवेशी को देखकर आधे घंटे के अंदर हजारों की भीड़ इकट्ठा होती है और उनके घर पर धावा बोलकर परिवार को बंधक बनाते हुए घर में आग लगा दी जाती है। हालांकि परिवार वालों को आतंकी भीड़ से बचाने में पुलिस कामयाब रही।

गिरिडीह के एसपी अखिलेश बी वरियार का कहना है कि ‘पीड़ित और उसके परिवार को बचाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा और हवाई फायरिंग भी करनी पड़ी। उस्मान के परिवार से जुड़े लगभग 25 लोगों को बंधक बनाया गया था।’ पुलिस के बचाव कार्य के बाद जहां उस्मान अंसारी को अस्पताल में भर्ती कराया गया वहीं उनके परिवार को किसी सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया है।

जब बोलता हिंदुस्तान ने इस बारे में एसपी से बात की तो उन्होंने सुनने से इंकार कर दिया औऱ फोन स्विच ऑफ कर दिया।

दलितों और मुस्लिमों के खिलाफ ये कोई पहली घटना नहीं है । इसी झारखंड में पिछले 2 महीने से लगभग एक दर्जन मामले ऐसे आए हैं जिसमें भीड़ ने लोगों को घेरकर जान लेने की कोशिश की है। पिछले महीने बच्चा चोरी का आरोप लगाकर कुछ मुस्लिम युवकों की पिटाई करते हुए उनकी जान ले ली गई थी।

अकेले झारखंड में दर्जनों मामले के साथ ही देशभर में ऐसा माहौल बना हुआ है कि महज शक के आधार पर भीड़ किसी को घेर लेती है और जानलेवा हमला करती है। अभी पिछले हफ्ते ही दिल्ली हरियाणा बॉर्डर पर चलती ट्रेन में जिस तरह से 16 वर्षीय जुनैद पर हमला करके ट्रेन यात्रियों ने उसकी जान ली इससे भीड़ का भयावह चेहरा दिखता है।

मोब-लिंचिंग यानी भीड़ द्वारा घेरकर की जा रही हत्याओं के खिलाफ देश भर में आंदोलन चल रहा है । जहां एक तरफ कुछ सामाजिक संगठनों ने इससे बचाव के लिए ‘मासूका’ यानी मानव सुरक्षा कानून नामक कानूनी प्रस्ताव पेश किया है वहीं दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर भी मुहिम छिड़ गई है ।\

आज से देशभर में इस तरह के अत्याचार के खिलाफ आंदोलन शुरु होने वाला है। इसी कड़ी में आज शाम को दिल्ली के जंतर मंतर पर भी प्रोटेस्ट का आयोजन किया गया है जिसमें हिंदू मुस्लिम एकता का पैगाम लिए लोग संदेश देंगे कि मजहब के नाम पर हत्याएं करना बंद करें। भीड़ के द्वारा किए जा रहे फैसले को यह देश नहीं सहेगा।

Loading...
loading...