कासगंज हिंसा मामले पर बरेली के डीएम राघवेंद्र विक्रम सिंह को सच बोलने की सजा मिल सकती है। राघवेंद्र विक्रम सिंह ने बीती रात सोशल मीडिया पर लिखते हुए उस मानसिकता पर वार किया था जो मुस्लिम समाज को हमेशा पाकिस्तान से जोड़कर देखती है और हमेशा उनकी देशभक्ति पर सवाल उठाती है। अब इस पोस्ट की वजह से  उनपर कार्यवाई हो सकती है ऐसा कहना है खुद उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या का।

दरअसल कासगंज में हुई हिंसा को लेकर मुस्लिम समाज पर उठ रहे सवालों पर डीएम ने बड़ी ही साफ़गोई से कहा था कि ऐसा ज़रूरी क्यों होता है कि मुस्लिमों को ही शक की निगाह से देखा जाये। अब योगी सरकार को उनका ये बयान उनके नौकरी पर आंच डाल सकता है।

यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने इस मामले पर संज्ञान लेते हुए कहा है कि बरेली के डीएम पर कार्रवाई होगी और उनसे जवाब ज़रूर माँगा जायेगा। इस मामले पर समाजवादी पार्टी की प्रवक्ता पंखुड़ी पाठक ने सोशल मीडिया पर लिखते हुए कहा कि ‘सच बोलने के लिए’ बरेली के डीएम पर होगी कार्रवाई।

बता दें कि कासगंज हिंसा में पाकिस्तान जिंदाबाद जैसे नारे लगाने की अफवाह जब सामने आई तो बरेली के डीएम ने सोशल मीडिया पर लिखा था। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा था  ‘अजब रिवाज बन गया है। मुस्लिम मोहल्लों में जबरदस्ती जुलूस ले जाओ और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाओ। क्यों भाई वे पाकिस्तानी हैं क्या? यही यहां बरेली के खेलम में हुआ था। फिर पथराव हुआ, मुकदमे लिखे गए….।’

Loading...
loading...