बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अच्छे दिन आते हुए दिखाई नहीं दे रहे। RJD का साथ छोड़ नीतीश ने भले ही BJP का दामन थाम लिया हो। लेकिन नीतीश की मुश्किलें बढ़ती हुई दिखाई दे रही है।

विरोधी दलों ने नीतीश कुमार को मात देने के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है। इस याचिका को अधिवक्ता मनोहर लाल शर्मा ने दायर किया है।

याचिका में नीतीश मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बने रहने पर सवाल उठाए गये है। याचिका में कहा गया है कि,’जब चीफ मिनिस्टर के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज है तो ऐसे में उनकी सदस्यता रद्द होनी चाहिए। इस मामले में सीबीआई को मुख्यमंत्री के खिलाफ F.I.R दर्ज करने की मांग भी की गई है।

चुनाव आयोग पर भी सवाल उठाये गए है कि जब आयोग को नीतीश कुमार के खिलाफ दर्ज आपराधिक मामलों की जानकारी है तो अब तक उनकी मेम्बरशिप सब कुछ जानते हुए भी क्यों रद्द नहीं की गई।

नीतीश कुमार पर बिहार कांग्रेस के नेता सीताराम सिंह के कत्ल का दोष है। 1991 में एक उप-चुनाव के दौरान कांग्रेस नेता पर हमला कर हत्या कर दी गई थी।

Loading...
loading...