भारतीय जनता पार्टी की सांसद रूपा गांगुली ने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधने की कोशिश में शुक्रवार को एक विवादित बयान दे दिया। रूपा गांगुली ने कहा कि पश्चिम बंगाल के बाहर रहने वाले वैसे लोग और पार्टियां जो ममता बनर्जी की सरकार का समर्थन कर रहे हैं उन्हें एक बार अपने घर की महिलाओं को वहां जरूर भेजना चाहिए।

भाजपा नेता ने दावा किया कि ममता के रहमो करम के बिना वहां आने वाली किसी भी महिला के साथ 15 दिन के अंदर बलात्कार हो जाएगा। गांगुली यहीं नहीं रुकीं। आगे उन्होंने कहा, ‘जो लोग ममता बनर्जी का समर्थन करते हैं उन्हें अपनी बीवी, बेटी, बहन, या बहू को बंगाल भेजना चाहिए, बिना बलात्कार हुए 15 दिन रह गए तो मुझे बताना’।

भाजपा सांसद और अभिनेत्री रुपा गांगुली अक्सर विवादों को लेकर चर्चा में रहती आई हैं। राज्य में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के दौरान भी गांगुली उस समय खबरों में आ गई थीं, जब उन्होंने इस हिंसा पर अपने एक समर्थक के टैग किए गए अत्यंत आपत्तिजनक ट्वीट पर चुप्पी साध ली थी। अपने बयानों और हाजिरजवाबी के लिए अक्सर चर्चा में रहने वाली गांगुली की इस खामोशी पर खासी आलोचना हुई थी।

वर्ष 2015 में भाजपा कर सदस्यता लेने वाली रूपा गांगुली एक अभिनेत्री रही हैं और टेलीविजन धारावाहिक ‘महाभारत’ में निभाए द्रौपदी के किरदार के लिए जानी जाती हैं। इससे पहले गांगुली बंगाल विधानसभा चुनाव के मतदान के दौरान टीएमसी की एक महिला समर्थक को थप्‍पड़ मारकर चर्चा में आ चुकी हैं।

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या रुपा गांगुली का ऐसा बयान देना सही है। इस तरह का बयान बंगाल सरकार के खिलाफ हो या न हो वहां रहने वाली लाखों महिलाओं को नीचा दिखाने वाला तो जरुर है। महिलाओं के प्रति ऐसा नजरिया कहा तक सही है। राजनीति में आरोप-प्रत्यारोप कोई नई बात नहीं है। लेकिन बलात्कार और महिलाओं को लेकर इस तरह का असंवेदनशील बयान देना कहां तक जायज है। ऐसे में भाजपा को भी इसपर जवाब देना पड़ सकता है।

Loading...
loading...