भ्रष्‍टाचार का आरोप झेल रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पूर्व प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार ने गुरूवार को केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) पर केजरीवाल के खिलाफ बयान देने के लिए दबाव बनाने जैसे गंभीर आरोप लगाए।

राजेंद्र कुमार द्वारा लिखे गए 12 पेज के लेटर में कहा गया है कि, सीबीआई ने मुझ पर झूठा केस दर्ज किया। इतना ही नहीं, पूछताछ के दौरान बार-बार कहा कि उन्हें छोड़ दिया जाएगा, अगर वह दिल्ली के मुख्यमंत्री के खिलाफ बयान देते है तो।”

कुमार ने आरोप लगाया, ”सीबीआई ने ना केवल लोगों को मुझे और मुख्यमंत्री को फंसाने के लिए कहा, बल्कि उन्होंने कई लोगों की पिटाई भी की जिनमें कुछ को स्थायी गंभीर चोटें आईं।”

मालूम हो कि, पिछले साल जुलाई में करप्शन के आरोप में सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किए जाने के वक्त अधिकारी मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव थे और बाद में उन्हें निलंबित कर दिया गया।

1989 बैच के आईएएस ऑफिसर कुमार का कहना है कि केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार के झगड़े में उन्हें मोहरा बनाया गया। उन्होंने दावा किया कि दिसंबर 2013 में केजरीवाल ने जब उन्हें अपने साथ काम करने के लिए आमंत्रित किया, तभी से उनकी मुश्किलें शुरू हो गईं।