महाराष्ट्र में 9वीं क्लास की इतिहास की किताब में सिखों को दहशतगर्द बताने का मामला सामने आया है। महाराष्ट्र स्टेट ब्यूरो ऑफ़ टेक्स्ट बुक पब्लिकेशन ने इतिहास की किताब में सिख समुदाय के प्रति आपत्तिजनक टिप्पणियां की गई है।

9वीं कक्षा की ‘इतिहास और राजनीति’ नाम की अंग्रेजी, मराठी, हिंदी में छपी किताब में ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ जिसमें सरकारी आंकड़ों और रिपोर्ट के अनुसार निर्दोष सिख भी मारे गए थे को ‘दहशतगर्दों’ को मारने की घटना बताया गया है।

किताब में सिखों के तीर्थ स्थान की रक्षा कर रहे सिखों और उस दौर में मानव-अधिकारों के लिए आवाज़ उठाने वाले सिख लोगों को ‘देशद्रोही’ लिखा गया है।

किताब में 30 नवंबर 1984 को हुई इंदिरा गाँधी की हत्या का तो ज़िक्र है। लेकिन इसके बाद पूरे देश में फैले सिख विरोधी दंगों पर कुछ भी नहीं लिखा गया। अब सवाल खड़े होते है कि 9वीं क्लास की किताब में किसी धर्म पर इस तरह की टिप्पणी करना कहा तक जायज़ है? क्या महाराष्ट्र का शिक्षा विभाग सिखों के प्रति ज़हर फ़ैलाने का काम कर रहा है ?

साभार – सिख सियासत

Loading...
loading...