संविधान में लिखा है कि यह देश सेक्युलर, सोशलिस्ट और फ़ेडरल है। हम जानते हैं कि यह झूठ है। संविधान में कल सेक्युलर काट कर हिन्दू कर दिया जाएगा। हम रोक नहीं पाएंगे। वह भी झूठ होगा। लिखने से कुछ नहीं बदलता। साहित्य हो या संविधान।

हिन्दू राष्ट्र को लेकर जिसे चिंता है, वह तुरंत बिना वक़्त गंवाए हिंदुओं के लिए एक वैकल्पिक राजनीति खोजने के काम में जुटे। हिन्दू राष्ट्र बनने से रोक पाना परंपरागत प्रगतिशील, मुस्लिम, समाजवादी, सेक्युलर या दलित राजनीति के वश में नहीं है।

हिन्दू राष्ट्र बनने से इस देश को हिन्दू ही रोक सकता है। वह हिन्दू जिसे अपने ग्राम देवता से लेकर 33 करोड़ देवी-देवताओं, प्रकृति, प्राणी और भूत-पिशाच की फिक्र है। जो सनातन धर्म के समावेशी मूल्यों को मानता है।

वही हिन्दू, जिसने पाकिस्तान बनने के बावजूद भारत को घोषित हिन्दू राष्ट्र नहीं बनने दिया था। वैसा हिन्दू इस देश का बफर है। उसे बचाइए। मुसलमानों और दूसरे समुदायों के कंधे से गंगा-जमुनी को बचाने का बोझ अब हटा दीजिये। बोझ शिफ्ट करने का वक़्त है। बफर गया तो सब गया।

लेखक- अभिषेक श्रीवास्तव

Tag- #Constitution Of India #Hindu-Muslim Unity #Hindu Rashtra #Pakistan

Loading...
loading...