इन दिनों एक खबर जमकर प्रचारित-प्रसारित की जा रही है कि नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार पर 73 प्रतिशत भारतीय भरोसा करते हैं। फोर्ब्स पत्रिका की रिपोर्ट का हवाला देते हुए मीडिया भी इसका प्रचार कर रही है। जबकि दूसरों का सरकार पर भरोसा बताने वाले इस प्रकार के आंकड़ों का खुद भी भरोसा करना मुश्किल होता है, जो यथार्थ से कोसों दूर होते हैं।

इसी पत्रिका की 2007 की रिपोर्ट कहती है कि यूपीए सरकार पर 82% भारतीय भरोसा करते थे।

इतनी बड़ी संख्या में भारतीयों का सरकार पर भरोसे का आंकड़ा दिखाने वाली पत्रिका तो मानो दूर से भारतीय मन को पढ़ने की कोशिश करती है लेकिन हमारी मीडिया तो इसे जमकर प्रचारित कर रही है, इस बात को दरकिनार करते हुए कि आधी से ज्यादा आबादी मोदी सरकार से नाखुश है।

इसमें हैरान करने वाली बात है कि इस आंकड़े को ऐसे प्रस्तुत किया जा रहा है जैसे कि ये ऐतिहासिक है और इसके पहले ऐसा कभी नहीं हुआ है ।

सरकारों की विश्वसनीयता का श्रेय लेने की इस दौड़ में कांग्रेस भी पीछे नहीं है और उसने भी अपनी दावेदारी ठोक दी है ।

इसी फ़ोर्ब्स पत्रिका की 2007 की रिपोर्ट को अपने ट्विटर हैंडल पर लगाते हुए कांग्रेस सवाल करती है कि एनडीए की सरकार पर हमसे 10% कम भरोसा क्यों है।

Loading...
loading...