बीते हफ्ते हिजबुल कमांडर जाकिर मूसा के वीडियो मैसेज से भूचाल मचा हुआ है। जिसमे हिजबुल कमांडर ने कहा है कि भारत में कश्मीर की लड़ाई जम्हूरियत की न होकर इस्लाम की हुकूमत कायम करने की लडाई है। इसके लिए मुसलमान भी अगर रास्ते में आये तो उनके सर काट दिए जायेंगे।

इस पूरे मामले पर उत्तराखंड व उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल अज़ीज़ कुरैशी ने हिजबुल मुजाहिदीन पर तीखी टिप्पणी की है। उन्होंने कहा है कि हिजबुल कंमाडर जाकिर मूसा के मंसूबो को भारत के लोग कामयाब नहीं होने देंगे और सेक्युलर संविधान के किरदार पर कोई आंच आएगी। 20 करोड़ मुसलमान इसके लिए खून का आखिरी क़तरा भी बहाना पड़े तो मुसलमान तैयार है !

पूर्व राज्यपाल अज़ीज़ कुरैशी ने देश के युवाओ को उनके दायित्व की ओर चेताते हुए कहा है कि यह वक़्त है कि युवाओ खासकर मुसलमान युवाओ को इस मुल्क के संविधान और जम्हूरियत को मज़बूत करने के लिए आगे आना चाहिए ।

आज समय है की युवा गाँधी-नेहरु के रास्ते पर चलकर मुल्क को दुबारा बनाने के लिए नौजवान अपना किरदार निभाए।

Loading...
loading...