सहारनपुर समेत देश के कोने-कोने में दलितों के खिलाफ हो रही हिंसा से आक्रोशित युवा दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने सरकार और मीडिया पर निशाना साधा है।

गुजरात में दलित आंदोलन का प्रमुख चेहरा रहे जिग्नेश मेवानी ने ट्वीट करते हुए कहा ‘सहारनपुर में गर्भवती दलित महिला पर तलवार से हमला किया गया, एक मासूम बच्चे को आग के हवाले करने की कोशिश की गई और बस्ती में आग लगाई गई जिससे आज भी धुआं निकल रहा है।’

एक और ट्वीट करते हुए कहते हैं ‘सहारनपुर में 15 लाख रुपए उस ठाकुर को मिले जो दलितों पर हमला करते वक्त भगदड़ में मर गया । और दलितों की भीम आर्मी को नक्सली होने का खिताब मिला।

गौरतलब है कि पिछले साल गुजरात के ऊना में दलितों के साथ हुई ज्यादती और अत्याचार के खिलाफ हल्ला बोल करते हुए जिग्नेश मेवाणी ने एक बड़ा आंदोलन खड़ा किया ।

इसके प्रभाव का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इस आंदोलन के ठीक बाद RSS का आंतरिक सर्वे कहता है कि गुजरात में भाजपा की जमीन खिसक गई है। जिससे सकते में आकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बयान देना पड़ा कि गोली मारना है तो मेरे सीने पर मारो, मेरे दलित भाइयों को परेशान मत करो।

जिग्नेश मेवाणी तेजी से एक बड़े दलित नेता के रुप में उभरे हैं। पहले वह आम आदमी पार्टी में थे लेकिन अब उनकी पहचान एक दलित एक्टिविस्ट की है।

Loading...
loading...