देश भर में सरकार के झूटे वादों को आड़े हाथों लेते हुए हरियाणा के करनाल में गेस्ट टीचर्स ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को खून से पत्र लिखने के बाद अपना मुंडन करवाया ।

दरअसल अपनी नौकरी को पक्का करने की गुहार लगाते हुए हरियाणा के गेस्ट टीचर्स ने खून से मुख्यमंत्री को 9 फरवरी को पत्र लिखा था।

इसपर कोई भी कार्यवाई नहीं हुई इसके बाद  महिला टीचरों ने सामूहिक मुंडन करवाया। सरकार के खिलाफ़ उन्होंने जमकर नारेबाज़ी की।

इस मौके पर काफी संख्या में महिला शिक्षकों को रोते बिलखते भी देखा गया। ऐसा बताया जा रहा है कि जिस महिला ने मुंडन करवाया वो शहीद की भी पत्नी है।

खत लिखते समय अतिथि अध्यापक निर्मला सैनी ने कहा था कि, चुनाव से पहले शिक्षा मंत्री राम विलास शर्मा ने वादा किया था कि वो गेस्ट टीचर्स को पक्का करेंगे।

लेकिन सरकार बने हुए करीब 4 साल हो गए है पर अभी तक ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है।

सरकार का जब मन करता है तब अध्यापकों को बाहर कर देती है । उन्होंने जोड़ते हुए कहा था कि उन्होंने अभी तो केवल पत्र लिखा है , उसके बाद वो मुंडन करवाएंगी और फिर अनशन पर बेठ जायेंगी।

ऐसा नहीं है कि ये पहली बार हुआ है, ऐसा बताया जाता है कि गेस्ट टीचर्स को बिना किसी संज्ञान के निकाल दिया जाता है इसी अव्यवस्था को ठीक करने के लिए ऐसे कुछ कदम गेस्ट टीचर्स उठाते रहें है। पर उनकी कोई भी नहीं सुनाता।

बात केवल गेस्ट टीचर को निकालने की नहीं है बात है उन जुमले वादों की जो सरकार चुनाव से पहले जनता को रिझाने के लिए करती रहती है। और अंत में सब धरा का धरा ही रह जाता है। महिलाओं का कहना है कि अगर अब भी उनकी बात नहीं मानी गई तो वो सब अनशन पर बैठेगें।

Loading...
loading...