वरिष्ठ साहित्यकार काशीनाथ सिंह का प्रधानमंत्री मोदी को लिखा खुला ख़त काफी वायरल हो रहा है। जिसमें पीएम मोदी पर तमाम सवालों की बौछार की गई है।

हालांकि वायरल ख़त की विश्वनियता खतरें में हैं क्योंकि वरिष्ठ साहित्यकार काशीनाथ सिंह ने अपना मानने से इंकार कर दिया है। जिसकी सफाई तमाम न्यूज बेवसाइट ने छाप दी है।

वायरल काशीनाथ सिंह का खुला ख़त जिसमें काफी सवाल उठाए गए हैं। उस पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

वायरल काशीनाथ सिंह का खुला ख़त

ना खाऊंगा ना खाने दूंगा की कसम खाकर प्रधानमंत्री की शपथ लेने वाले श्री. नरेंद्र मोदी के नाम वरिष्ठ लेखक काशीनाथ सिंह ने खुला पत्र लिखा है|

पत्र में काशीनाथ सिंह ने ‘पनामा पेपर लीक’ (टैक्स चोरी  मामले) में हुई अन्य देशों की कार्रवाई को बताते हुए भाजपा सरकार द्वारा इस मामले पर कोई कड़ा कदम ना उठाने की आलोचना की है| पत्र में उन्होंने पनामा पेपर लीक के उन लोगों के नाम भी बताए है जो प्रधानमंत्री मोदी के करीबी है और कुछ तो उनकी पार्टी के बड़े नाम हैं|

आप लोग भी पात्र पड़े…

आदरणीय प्रधान मंत्री जी,

माफ़ कीजिएगा। पाकिस्तान की तारीफ़ कर रहा हूं। बुरा लगे तो और माफ़ कर दीजिएगा लेकिन आज पाकिस्तान की तारीफ़ का दिन है। पाकिस्तान ने साबित कर दिया है कि वहां कानून का शासन है। कोई कितना भई करप्शन कहे लेकिन वहां करप्शन के मुद्दे पर माफ़ी नहीं हैं। वहां घोटाला करके प्रधानमंत्री भी नहीं बचता लेकिन हमारे यहां प्रधानमंत्री का कृपापात्र होने भर से कई की नैया पार हो जाती है।

जिस पनामा लीक केस में नवाज शरीफ की सरकार गई है उसी पनामा लीक में मोदी जी के देश के 500 नाम हैं। इंडियन एक्सप्रेस बाक़ायदा लिस्ट भी छाप चुका है। नाम जानना चाहते हैं तो फिर बता देता हूं। लिस्ट में मोदी जी के सगे गौतम अडानी के बड़े भाई विनोद अडानी का नाम है। मोदी के सबसे नज़दीकी सितारे अमिताभ बच्चन का नाम है। उनकी बहू ऐश्वर्या राय का नाम है। देशभक्त एक्टर अजय देवगन का नाम है। मोदी जी आपके सगे चीफ मिनिस्टर रमन सिंह के बेटे अभिषेक सिंह का नाम भी उसी केस में है जिसमें पाकिस्तान के पीएम नवाज़ शरीफ को दोषी माना गया और उन्हें सज़ा भी होगी। बंगाल के शिशिर बजोरिया का नाम है और अनुराग केजरीवाल का भी नाम है। रमन सिंह के बेटे के पास ये दौलत कहां से आई होगी?

इसके लिए अलग से जानकारी देने की ज़रूरत नहीं हैं। मोदी जी सबसे समझदार पीएम हैं। अंदाज़ा आसानी से लगा सकते हैं। चलो ये सब तो मोदी जी और उनकी पार्टी के सगे हैं। लेकिन इकबाल मिर्ची का आपकी सरकार कुछ क्यों नही बिगाड़ सकी? इंडिया बुल्स के मालिक भी पनामा में नोटों का खेल खेलकर इस मजे में हैं। आप ईमानदारी के नाम पर बिहार की सरकार पलट देते हैं, लेकिन इस मामले में कुछ नहीं कर पाते।

ज़रा पाकिस्तान से ही सीखिए, जहां की सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ को सलाखों का रास्ता दिखा दिया! आइसलैंड से सीखिए, जहां के पीएम ने इस्तीफा दे दिया।

आप तो कहते थे कि मैं न खाऊंगा न खाने दूंगा, लेकिन ये नोटों का अजीर्ण लिए घूम रहे नाम क्या आपने अखबार में नहीं पढ़े? क्या पनामा लीक्स के बारे में आपको कुछ नहीं पता?

खैर! नहीं पता तो बता देता हूं।वैसे भी ये वो देश है जहां का टूर अभी तक आपने नहीं किया है।पनामा मध्य अमेरिका का एक छोटा सा देश है।पनामा में विदेशी निवेश पर कोई टैक्स नहीं लगता है, इसी वजह से पनामा में लगभग “साढ़े तीन लाख” सीक्रेट कंपनियां है। पनामा में ‘सेक फाॅन्सेका’ नामक फर्म, विदेशियों को पनामा में शेल कंपनी (फेक कंपनी) बनाने में मदद करती है जिसके जरिये कोई भी व्यक्ति, अपना नाम पता बताए बगैर यहां संपत्ति खरीद सकता है।

इसी कंपनी के लीक हुऐ दस्तावेजों में दुनिया भर के बडे नेताओं प्रमुख खिलाडियों और अन्य बडी हस्त्तियों के नाम सामने आये हैं जिन्होनें अरबों डॉलर की राशि पनामा में छुपाई हुई है।

इनमें आइसलैंड और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, यूक्रेन के राष्ट्रपति, सऊदी अरब के राजा और डेविड कैमरन के पिता का नाम प्रमुख है।इनके अलावा लिस्ट में व्लादिमीर पुतिन के करीबियों, अभिनेता जैकी चैन और फुटबॉलर लियोनेल मेसी का नाम भी है। दुनिया भर में इन दस्तावेजों के आधार पर एक्शन हो रहे हैं।

मोदी जी आप क्या कर रहे हैं?कुछ कर डालिए। आपसे देश को इतिहास में सबसे ज्यादा उम्मीदें हैं।

Loading...
loading...