राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के शपथ लेने के बाद संसद के सेंट्रल हॉल में लगे जय श्री राम के नारों पर कविता कृष्णन ने सवाल उठाया है। भाकपा (माले) नेता कविता ने ट्वीट कर पूछा कि क्या भाजपा यह मानती है कि हम हिंदू राष्ट्र बन चुके हैं।

भारत के नए राष्ट्रपति के तौर पर कोविंद को मंगलवार को संसद के सेंट्रल हॉल में सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश जे एस खेहर ने शपथ दिलाई। शपथ ग्रहण के बाद राष्ट्रगान बजाया गया। राष्ट्रगान जैसे ही खत्म हुआ भाजपा सासंद भारत माता की जय और जय श्री राम के नारे लगाने लगे।

जिस वक्त ये नारे लगाए गए उस समय सेंट्रल हॉल में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी और प्रधानमंत्री मोदी और विपक्ष के नेताओं के साथ कई सांसद मौजूद थे। संसद में इस तरह के नारे लगाए जाने का सोशल मीडिया पर काफी विरोध भी देखा गया।

महिला अधिकारों के लिए लड़ने वाली वामपंथी नेता कविता कृष्णन ने इन नारों को आरएसएस के हिंदू राष्ट्र से जोड़ते ट्विटर पर लिखा कि क्या भाजपा को लगता है कि हम हिंदू राष्ट्र बन चुके हैं।

आपको बता दें कि, ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब संसद में जय श्री राम के नारे लगे हों। इससे पहले, प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद नरेंद्र मोदी के स्वागत समारोह में भी बीजेपी के सांसदों ने ऐसी नारेबाजी की थी। उस दौरान जय श्री राम के साथ मोदी-मोदी के भी नारे लगाए गए थे।

गौरतलब है कि, देश के राष्ट्रपति कोविंद ने अपना पदभार संभालने के बाद अपने संबोधन में कहा कि देश की सफलता का मंत्र उसकी विविधता है और यही विविधता हमारा आधार है जो हमें अद्वितीय बनाता है। हम बहुत अलग हैं, लेकिन फिर भी एक हैं, एकजुट हैं।’

Loading...
loading...