भारतीय जनता पार्टी अपने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को जोर शोर से एक दलित नेता बता रही है। पार्टी उन्हें दलितों का नेता और मसीहा बता रही है। जबकि सच्चाई यह है कि कोविंद ने कभी भी दलितों के लिए कोई काम नहीं किया है। यह बात खुद उनके भाई ने कही हैं। कोविंद के भाई ने कहा कि दलित समाज की बात तो दूर 12 साल तक सांसद रहे कोविंद ने अपने भाई-भतीजों के लिए भी कुछ नहीं किया।

रामनाथ कोविंद के चचेरे भाई और कानपुर के जुझारू मजदूर नेता ओमप्रकाश आनन्द ने कहा कि कोविंद कोई दलित नेता नहीं हैं और न ही कभी उन्होंने दलितों की समस्याओं पर कोई आंदोलन संगठित किया है।

आनंद ने कहा, कोविंद की कोई उपलब्धी नहीं है। अगर कोविंद दलित नेता होते तो दलित समस्याओं को उठाते। भाजपा को दलितों में कोई चेहरा नहीं मिला इसलिए इन्हें संघ परिवार का होने के कारण दिखावे के लिए राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया गया है।

कोविंद के भाई ने कहा कि कोविंद ने दलित समाज तो दूर की बात है अपने भाई भतीजों के लिए भी कभी कुछ नहीं किया। उन्होंने बताया कि कोविंद 12 साल तक सांसद रहे और उनके अपने भाई और भतीजे साइकिलों पर घूम घूम कर कपड़ा बेचते हैं।

आनंद ने आरोप लगाया कि कोविंद ने सांसद रहते हुए सिर्फ अपने बेटे-बेटियों के लिए ही सबकुछ किया। उन्होंने पूछा कि आखिर क्यों कोविंद ने अखबारों में अपनी भाभी और भतीजी के बारे में परिचय दिया लेकिन अपने बेटी और दामाद के बारे में कभी कुछ नहीं कहा। ऐसा उन्होंने सिर्फ वाहवाही बटोरने के लिए किया।

अपने बारे में आनंद ने कहा कि कोविंद ने उन्हें कभी पसंद नहीं किया। एक घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि कोविंद के सांसद रहने के दौरान वह एक बार साउथ एवेन्यू स्थित उनके आवास पर गए तो उनकी पत्नी ने बहुत बुरा व्यवहार किया। भाई ने कहा कि उनके वामपंथी होने के कारण भी कोविंद ने उन्हें कभी पसंद नहीं किया।

कोविंद के भाई और मजदूर नेता आनंद ने कहा कि मीरा कुमार ही राष्ट्रपति पद के लिए सबसे योग्य उम्मीदवार हैं। सभी धर्मनिरपेक्ष दलों को संविधान की रक्षा के लिए मीरा कुमार को ही राष्ट्रपति बनाना चाहिए। उन्होंने कहा, आज देश में दलितों और अल्पसंख्यकों पर जो अत्याचार हो रहा है उसपर रोक लगाने के लिए मीरा कुमार ही सबसे बेहतर और सही विकल्प हैं।

आपको बता दें कि रामनाथ कोविंद के भाई वर्षो तक भाकपा की कानपुर महानगर इकाई के सचिव रहे हैं और आज भी राज्य काउंसिल के सदस्य हैं।

Loading...
loading...