उत्तरप्रदेश में अपराध दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। इस बढ़ते अपराध और अपराधियों की बेखौफी का नज़ारा हाल ही में इलाहाबाद में नज़र आया। यूपी के इलाहाबाद में मामूली कहासुनी के बाद एक 26 साल के दलित युवक की कुछ लोगों ने इतनी पिटाई की कि उसकी मौत हो गई। घटना का विचलीत कर देने वाला वीडियो भी सामने आया है जिसमें दिख रहा है कि एक रेस्‍तरां के बाहर कुछ लोग उस शख्‍स को हॉकी स्टिक, टूटी पाइप और ईंटों से बुरी तरह मार रहे हैं।

कानून की पढ़ाई करने वाला 26 वर्षीय छात्र दिलीप कुमार सरोज कोमा में चला गया जिसकी रविवार सुबह अस्‍पताल में मौत हो गई। घटना के मुख्य अपराधी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

शनिवार रात इलाहाबाद के कटरा इलाके में स्थित एक रेस्तरां में कुछ लोगों द्वारा मामूली कहासुनी के बाद दिलीप की बेरहमी से पिटाई की गई थी। इस हमले के बाद आरोपियों ने बेसुध अवस्था में सड़क किनारे पड़े दिलीप पर पत्थरों से भी कई बार वार किया था और फिर मौके से फरार हो गए थे।

वीडियो में साफ़ नज़र आ रहा है कि सड़क पर दिलीप को बुरी तरह से पीटा जा रहा है लेकिन इसे राज्य में अपराधियों का बढ़ता खौफ कहिये या यूपी पुलिस की नाकामी की कोई भी छात्र की मदद के लिए आगे नहीं आता है। ऐसा लग रहा है जैसे लोगों का कानून-व्यवस्था से भरोसा ही उठ गया हो।

वारदात के बाद रेस्तरां के मालिक अमित उपाध्याय ने एक अन्य के साथ मिलकर दिलीप को स्थानीय अस्पताल में दाखिल किया था। इसके बाद दिलीप का परिवार उन्हें एक अन्य अस्पताल में ले गया था जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी।

पुलिस ने इस वारदात के मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। इस गिरफ्तारी के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए इलाहाबाद के एसएसपी आकाश कुलहरि ने बताया कि इलाहाबाद पुलिस की स्पेशल टीम ने घटना में शामिल युवक मुन्ना सिंह चौहान को किया गिरफ्तार किया है जबकि उसके अन्य साथियों की शिनाख्त कर ली गई है। उन्होने बताया कि हमले में शामिल मुन्ना सिंह चौहान ने ही दिलीप पर रॉड से हमला किया था।

इलाहाबाद में दिलीप कुमार सरोज की हत्या के बाद विपक्ष ने कानून व्यवस्था के मुद्दे पर सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। घटना के बाद पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, ‘बेहद दु:खद ! 26 वर्षीय दिलीप सरोज का इलाहाबाद में सरेआम क़त्ल! लाचार क़ानून व्यवस्था, बद से बदतर होती स्थिति भाजपा राज में।’

Loading...
loading...