12 फरवरी (सोमवार) को देश भर की विभिन्न भारतीय भाषाओं के 23 लेखकों को साल 2017 के साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाजा गया। सांप्रदायिक सद्भाव पर किताब लिखने वाले मलयालम लेखक केपी रामानुन्नी को भी यह पुरस्कार दिया गया। केपी रामानुन्नी ये साहित्य अकादमी पुरस्कार उनकी किताब ‘दाएवाथिंते पुस्तकम’दिया गया।

साहित्य अकादमी के वार्षिक महोत्सव ‘फेस्टीवल आफ लेटर्स’ में लेखकों को तांबे की पट्टिका, एक शॉल और एक लाख रूपये नकद राशि दी गई। केपी रामानुन्नी को भी ये सारी चीजे मिली लेकिन उन्होंने पुरस्कार राशि (एक लाख रूपये) जुनैद खान की मां को भेज कर दिया है।

23 writers got sahitya Akademi award for 2017

पिछले साल जून में दिल्ली से ईद की खरीदारी कर ट्रेन से अपने घर बल्लभगढ़ (हरियाणा) जा रहे जुनैद की निर्मम हत्या कर दी गई थी। केपी रामानुन्नी ने पुरस्कार राशि में से महज तीन रुपये अपने पास रखकर बाकी की रकम जुनैद की मां को दे दिए।

साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता लेखक ने जुनैद की मां को दी पुरस्कार राशि

केपी रामानुन्नी ने कहा कि उन्हें जिस किताब ‘दाएवाथिंते पुस्तकम’ के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया है, वह सांप्रदायिक सद्भाव पर आधारित है। उन्होंने कहा कि जुनैद को बिना किसी वजह के मार डाला गया था।

Loading...
loading...