इलाहाबाद में दलित छात्र दिलीप कुमार सरोज की हत्या के मामले में मायावती ने बयान जारी किया है। मायावती ने कहा है कि, ”दलित छात्र की इस प्रकार की नृशंस हत्या बीजेपी शासन में कोई अकेली घटना नहीं है बल्कि ऐसी दर्दनाक घटनाएँ लगातार घटित हो रहीं हैं और इसके लिए कोई और नहीं, बल्कि बीजेपी की संकीर्ण जातिवादी और नफरत की राजनीति पूरी तरह से दोषी है”

इलाहाबाद में कानून की पढाई कर रहे दलित छात्र की हत्या पर दुःख प्रकट करते हुए बहुजन समाजवादी पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने सोमवार को कहा कि आज़ादी के 70 साल बाद भी उच्च शिक्षा नाममात्र ही है, सदियों से दलित समाज पर लगातार इस तरह के हमले होते आ रहे हैं। एक दलित होनहार छात्र की हत्या से पूरा समाज आहत है।

Image result for mayawati

आगे उन्होंने कहा कि ”देश में पढ़े लिखे युवक रोज़गार न मिलने के कारण कुंठा का शिकार हैं। इस कारण विभिन्न तरह के अपराध हर स्तर भी बढ़ रहा हैं और समाज का तानाबाना भी बिगड़ रहा है। जिस तरह दिलीप की हत्या कर दी गई उसके परिवार की भरपाई किसी भी तरह नहीं हो सकती।”

मायावती की मांग है कि राज्य सरकार दोषियों को सख्त सज़ा देने के साथ-साथ परिवार वालों को आर्थिक मदद भी दे। विपक्ष ने योगी सरकार की कानून व्यवस्था पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं।

उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कानून व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए ट्वीट किया था कि ‘बेहद दु:खद ! 26 वर्षीय दिलीप सरोज का इलाहाबाद में सरेआम क़त्ल! लाचार क़ानून व्यवस्था, बद से बदतर होती स्थिति भाजपा राज में।’

Loading...
loading...