शुक्रवार को केंद्र सरकार ने पासपोर्ट के रंग को बदलकर नारंगी करने का फैसला किया, इसके साथ ही पासपोर्ट का अंतिम पेज भी अब प्रिंट नहीं किया जाएगा. ये जानकारी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने दी है।  नारंगी रंग के पासपोर्ट उन लोगों के लिए जारी किए जाएंगे जिन्होंने 10वीं की स्कूली शिक्षा भी पूरी नहीं की है।

मंत्रालय ने यह भी घोषणा की थी कि पासपोर्ट का आखिरी पेज, जिसमे अभी तक माता पिता या अन्य परिजनों के नाम होते थे , अब वो हटा दिए जाएँगे।

इन परिवर्तनों की घोषणा तीन सदस्यीय समिति की सिफारिश के बाद की गई, जिसमें विदेश मंत्रालय के अधिकारियों और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भी शामिल हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार के इस कदम का विरोध किया है। उन्होंने कहा यह भेदभाव भरा कदम है। अभी तक सभी तरह के भारतीय पासपोर्ट नीले रंग होते हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि काम की तलाश में विदेश जाने वाले भारतीय कामगारों के साथ ‘दोयम दर्जे’ वाले व्यवहार को स्वीकार नहीं किया जा सकता है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर कहा, ‘इससे बीजेपी के भेदभावपूर्ण सोच का पता चलता है’।

ये बात किसी से छुपी नहीं है कि भारत से सबसे ज़्यादा लोग रोज़गार की तलाश में अरब देशों में काम करने जाते हैं। जब उनके पासपोर्ट का रंग देखा जाएगा तो हो सकता है कि उनके साथ भेदभाव किया जाए, और वो नौकरी से भी वंचित रह सकते हैं।

साभार- Reuters

 

 

Loading...
loading...