गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स यानी जीएसटी को मोदी सरकार ने एक देश एक टैक्स का नारा देकर शुरू तो कर दिया लेकिन 8वें दिन भी लगातार कपड़ा व्यापारी इसका विरोध कर रहे हैं।

सूरत में लगातार कपड़ा व्यापारियों का विरोध प्रदर्शन जारी है। रोजाना करीब अनुमानित 150 करोड़ रूपए का नुकसान सरकार का हो रहा है।

देश के भारी नुकसान को देखते हुए सरकार इस हड़ताल और विरोध को कुचलना चाहती है लेकिन व्यापारी से बात नहीं करना चाहती है। सूरत में करीब 40 हजार कपड़ा व्यापारी हड़ताल पर है। जो रात दिन जीएसटी का विरोध कर रहा है। बीते दो दिनों में भारी संख्या में लोग जमा हुए।

वहीं कुछ व्यापारी तो नंगे होकर प्रदर्शन करने लगे। नग्न व्यापारी लगातार मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। उऩ्होंने भाजपा सरकार पर व्यापारियों की अनदेखी का आरोप लगाया।

दरअसल कुछ दिन पहले देश के किसानों ने दिल्ली के लुटियन जोन में नंगे होकर प्रदर्शन किया था।

Loading...
loading...