गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने युवाओं के नशे की लत लगने पर लड़कियों पर विवादित बयान भी दे दिया, उन्होंने कहा मुझे डर लगने लगा है, क्योंकि अब लड़कियों ने भी बीयर पीना शुरू कर दिया है। इन सभी बयानों में सरकार की निराशा साफ़ झलकती है।

इसके साथ ही मनोहर पर्रीकर ने युवाओं के बारें में बोलते हुए कहा कि उन्हें सिर्फ रोजगार इसलिए नहीं मिला क्योकिं कामचोर है। अब सवाल ये उठता है क्या मोदी सरकार और बीजेपी लोग महिलाओं को एक सीमा तक सीमित रखना चाहते है जिसका उदाहरण पिछले दिनों राज्यसभा में भी देखने को मिला था।

दरअसल पर्रीकर राज्य विधानसभा विभाग की ओर से आयोजित राज्य युवा संसद को संबोधित कर रहें थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि “मुझे अब डर लगने लगा है, क्योंकि अब तो लड़कियों ने भी बियर पीना शुरू कर दिया है। सहन शक्ति की सीमा टूट रही है।

लेकिन जैसे ही उनका यह बयान सामने आया सोशल मीडिया पर लोगों ने मनोहर पर्रीकर की आलोचना करते हुए बीयर पीती महिलाओं की फोटो शेयर की।

जिस कट्टर सोच का बीजेपी प्रचार कर रही है वो कहीं से भी न्यू इंडिया को नहीं दर्शाती है। अगर ऐसा होता है तो पीएम मोदी खुद राज्यसभा में कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी की हँसी का मजाक नहीं बनाते और उनकी हँसी की तुलना फिर शूर्पणखा से नहीं की जाती।

अब जब गोवा के मुख्यमंत्री महिलाओं पर ऐसे बयान देकर इस बात की मुहर लगा रहें है बीजेपी महिलाओं को बियर पीते और ठहाके लगते नहीं देख सकती है ये सोच कहीं से भी न्यू इंडिया को नहीं दर्शाती है।

Loading...
loading...