Tuesday, Jan 17, 2017
HomeBH firstpostनोटबंदी का फैसला रिज़र्व बैंक का नहीं बल्कि पीएम मोदी का था : आरबीआई रिपोर्ट

नोटबंदी का फैसला रिज़र्व बैंक का नहीं बल्कि पीएम मोदी का था : आरबीआई रिपोर्ट

नई दिल्‍ली। नोटबंदी के फैसले को लेकर भारतीय रिजर्व बैंक की एक रिपोर्ट ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। रिपोर्ट के मुताबिक सरकार ने नोटबंदी से एक दिन पहले 7 नवंबर को आरबीआई से नोटबंदी के मसले पर विचार करने को कहा था। जिसके बाद 8 नवंबर को आरबीआई की सहमती से पीएम मोदी ने नोटबंदी का ऐलान किया था।

22 दिसंबर को संसदीय पैनल के समक्ष पेश की गई रिपोर्ट में आरबीआई ने कहा कि, ”सरकार ने सात नवंबर को आरबीआई को सलाह दी थी कि जाली नोट, आतंकियों की फंडिंग और काला धन की समस्‍याओं से निपटने के लिए आरबीआई का सेंट्रल बोर्ड 500 और 1000 के नोटों की कानूनी वैधता को वापस लेने पर विचार कर सकता है।”

अंग्रेजी डेली ‘द इंडियन एक्‍सप्रेस’ में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक सरकार की इस सलाह पर गौर करने के लिए अगले ही दिन आरबीआई सेंट्रल बोर्ड की बैठक बुलाई गई और विचार-विमर्श के बाद 500 और 1000 के नोटों की कानूनी वैधता खत्म कर दी गई।

ग़ौरतलब है कि नोटबंदी के 8 दिन बाद केंद्रीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने राज्यसभा में नोटबंदी पर बहस के दौरान कहा था कि नोटबंदी का निर्णय आरबीआई बोर्ड ने लिया था। बोर्ड ने अपने इस निर्णय को सरकार के पास भेजा और सरकार ने इस निर्णय की सराहना करते हुए, कैबिनेट की मंजूरी से आरबीआई के इस निर्णय पर मुहर लगा दी।

इस रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने ट्विटर पर लिखा, “अब यह स्‍पष्‍ट हो गया है कि नोटबंदी का निर्णय पीएम मोदी का था। आरबीआई को सूचना दी गई और उसने हामी भरी। इसके प्रभावों पर कोई विचार नहीं किया गया। पीयूष गोयल ने झूठ बोला कि यह आरबीआई का निर्णय था”।

#RBI Report, #Decision of Demonetization, #PM Modi, #Piyush Goyal, #Prashant Bhushan

भारत के
Rate This Article:
NO COMMENTS

LEAVE A COMMENT