खाद्य वस्तुओं, विशेषकर अंडे और सब्जियों के दाम बढ़ने से दिसंबर 2017 में रिटेल महंगाई दर बढ़कर 5.21 प्रतिशत पर पहुंच गई है। ये 17 महीनों का उच्चतम स्तर है। नवम्बर 2017 में रिटेल महंगाई दर 4.88 प्रतिशत थी।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार महीने दर महीने आधार पर दिसंबर में खाद्य महंगाई दर 4.42 फीसदी से बढ़कर 4.96 फीसदी रही है। वहीं दिसंबर में शहरी इलाकों की महंगाई दर 7.36 फीसदी से बढ़कर 8.25 फीसदी रही है।

दिसंबर में दालों की महंगाई दर 23.53 फीसदी के मुकाबले 23.47 फीसदी रही है। सब्जियों की महंगाई दर 22.48 फीसदी से बढ़कर 29.13 फीसदी पर रही है। हालांकि फ्यूल, बिजली की महंगाई दर में कोई बदलाव नहीं हुआ है। दिसंबर में फ्यूल, बिजली की महंगाई दर 7.9 फीसदी पर बरकरार रही है। कपड़ों और जूतों की महंगाई दर 4.96 फीसदी से घटकर 4.8 फीसदी रही है।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार दिसंबर में खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति बढ़कर 4.96 प्रतिशत हो गई, जो इससे पिछले महीने में 4.42 प्रतिशत पर थी।

रिटेल महंगाई दर भारतीय रिजर्व बैंक के हिसाब से सुखद स्तर से बहुत अधिक है। इससे निकट भविष्य में ब्याज़ दरों में कटौती की उम्मीदों पर पानी फि‍र गया है। उल्‍लेखनीय है कि जब रिटेल महंगाई दर भारतीय रिजर्व बैंक के तय लक्ष्‍यों के अनुरूप होती है, तभी बैंक ब्‍याज़ दरों में कटौती की संभावना होती है।

Loading...
loading...