10 अगस्त की रात जब अचानक गोरखपुर के बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज में मासूम बच्चों के मरने का सिलसिला शुरू हुआ और देखते ही देखते 5 दिनों में 60 अबोध बच्चों के प्राण पखेरू हो गए। तब योगी आदित्यनाथ के मंत्रालय के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने तर्क दिया कि ‘अगस्त के महीने में बच्चे मरते हैं’।

अब तो अक्टूबर चल रहा है लेकिन अब भी बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज से मुर्दा बच्चे को अपने कंधे पर ले जाते कोई मां दिख ही जाती है।

अब क्या तर्क देंगे स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह? ऐसा ही कुछ सवाल पूछा है राज्यसभा सांसद और राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू यादव की बेटी मीसा भारती ने।

मीसा भारती ने ट्विट किया है कि ’30 दिनों के बोनस और 100 मीटर के भगवान राम की मूर्ति के बीच यहाँ अभागे गरीबों के बच्चे अब भी मर रहे हैं! और यह अक्टूबर है, अगस्त नहीं!’ बीआरडी मेडिकल अस्पताल कॉलेज प्रिंसिपल पीके सिंह के अनुसार पिछले चार दिनों में अब तक 69 लोगों मौतें हो चुकी है।

प्रिंसिपल के मुताबिक हाल ही में करीब 333 मरीज़ अभी शिशु वार्ड में मौजूद है। अस्पताल की रिपोर्ट के मुताबिक 333 बच्चें आखिर के 4 दिनों में एडमिट हुए जिनमें से हर दिन 12 से 20 बच्चों की मौत अलग अलग कारण से हुई।

7 अक्टूबर को करीब 12 बच्चों की मौत हुई वहीँ अगले दिन यानी 8 तारिक को 20 बच्चें फिर 9 तारिक को 18 और 10 तारिक को करीब 19 मौतें हुई। प्रिंसपल का कहना है कि ज्यादातर मौते इन्फेक्शन के वजह से हो रही ऑक्सीजन की कमी से।

Loading...
loading...