अगर संघियों ने पाकिस्तान के किसी वीडियो को मुंबई का बता कर मुसलमानों के खिलाफ नफरत फैलाने की कोशिश की तो क्या नया किया…! इनका इतिहास झूठ से शुरू होता है और झूठ पर खत्म होता है।

लेकिन जब इनकी सरकार आधिकारिक रूप से मोरक्को की किसी रोशन सड़क को भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर लगाई गई बत्तियों की शक्ल में पेश कर सकती है तो धर्म के अंधे कुएं में उछलने-कूदने वाले बजरंगी मेंढ़कों की क्या हैसियत..!

जब खुद नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री रहते आधार को धोखा बताते हैं और उनके प्रधानमंत्री बनने के बाद उनकी सरकार इसी आधार को जबरन लागू करवाती है तो कौन तय करेगा कि वे पहले झूठ बोल रहे थे या अब..!

मगर इनका टाइम ही खराब है। आज विज्ञान और तकनीक की दुनिया इतनी ऊंचाई पर पहुंच चुकी है कि ये झूठ उल्टी करते हैं और उधर पकड़ में आ जाता है। वरना इन्हीं झूठों के गिरोह ने गिरोह ने एक बार समूचे देश के मूर्खों से पत्थरों को दूध पिलवा ही दिया था…!

मगर यह भी ध्यान रखने की जरूरत है कि आज भी इनका टारगेट क्लास वही है जो इन धूर्तों के एक इशारे पर अपनी मूर्खता का इजहार करने मेंढ़कों के कुएं में कूद जाता है

Loading...
loading...