समाजवादी पार्टी अब ईवीएम के खिलाफ खुलकर सामने आ गई है। लखनऊ में जनेश्वर मिश्रा ट्रस्ट में हुई हाई पॉवर मीटिंग इस मामलें पर खूब चर्चा रही कि प्रदेश में दो लोकसभा सीटों पर जो उपचुनाव होने है उसमें ईवीएम के इस्तेमाल न हो। इस बैठक में शामिल हुए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी बैलेट पेपर पर भरोसा जताया ।

दरअसल गोरखपुर और फूलपुर की लोकसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में ईवीएम की जगह बैलट पेपर से करवाए जाने की मांग करने वाली समाजवादी पार्टी का दर है कि भाजपा के पक्ष में हेर-फेर हो सकती है। इस मामलें में सपा का एक प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग से मिलकर अपनी मांग आयोग के सामने रखेगा।

इसपर अन्य दलों को साथ लेने के लिए वह जनवरी के दूसरे हफ्ते में अन्य विपक्षी दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे.

गौरतलब है कि गोरखपुर और फूलपुर – ये दोनों ही सीटों उत्तर प्रदेश के मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या के इस्तीफे के बाद दोनों सीट खाली हुई हैं। इन दोनों सीटों पर 22 मार्च से पहले चुनाव करवाए जाने है।

उम्मीद जताई जा रही है कि फरवरी 2018 में होने वाले विधानसभा चुनावों के साथ इन दो सीटों पर भी मतदान होंगे।

इससे पहले भी सपा ने उत्तर प्रदेश के निकाय चुनाव में ईवीएम गड़बड़ी का आरोप लगाया था।

नगर निकाय चुनाव में हार पर बोलते हुए अखिलेश यादव ने कहा था कि जहां बैलट पेपर से चुनाव हुए वहां बीजेपी महज 15 फ़ीसदी सीट ही जीत सकी है।

Loading...
loading...