राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) सुप्रीमो शरद पवार ने संघ प्रमुख मोहन भागवत के पूरे देश में गौहत्या पर बैन लगाने वाले बयान को गलत करार दिया है। उन्होंने कहा कि पूरे देश में गौहत्या पर बैन लगाना कहीं से भी उचित नहीं है।

उन्होंने वीर सावरकर का उदाहरण देते हुए कहा कि वीर सावरकर गौहत्या के पक्ष में थे। उन्होंने कहा था कि जब गाय वृद्ध हो जाए, तो किसानों के लिए बोझ नहीं होना चाहिए।

बता दें कि ये बातें एनसीपी शरद पवार ने अपनी आत्मकथा के विमोचन के मौके पर दिल्ली के नेशनल म्यूजियम में कहीं। इस विमोचन के मौके पर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, सीताराम येचुरी और केसी त्यागी जैसे नेता मौजूद थे।

समारोह में न सिर्फ सभी दलों के नेताओं ने देश के वर्तमान माहौल को खतरनाक बताया, बल्कि कई दलों के नेताओं ने पवार से वर्तमान राजग सरकार के खिलाफ मुहिम का नेतृत्व करने की मांग की।

इस दौरान पवार ने भी देश में अजीब तरह के माहौल का जिक्र करते हुए अल्पसंख्यक और शोषित समुदाय के असुरक्षा की भावना में जीने की बात कही।

उन्होंने इंदिरा गांधी के इमरजेंसी को याद करते हुए कहा कि जैसा माहौल इमरजेंसी के समय था, ठीक वैसा ही माहौल अभी है। पवार ने कहा कि, आज इस देश में अल्पसंख्यक, दलितों के लिए भय का माहौल है।

Tag- #Sharad Pawar #NCP #Pm Modi #Muslims #Dalits #Mohan Bhagwat #RSS #Indira Gandhi

Loading...
loading...