मोनिका, मोरक्को चलोगी, सुना है वहाँ रात में बिजली के खंभे जगमगाते हैं।

हम भारत में मोनाको बिस्कुट खा खाकर चट गए हैं। महेश, चल न, हम स्पेन मोरक्को सीमा की सैर करते हैं। इंडिया में सो सो हॉट है दीज़ डेज़ ।

मोनिका, होम मिनिस्ट्री की रिपोर्ट लाओ तो। देखे भारत में मोरक्को से मिलती जुलती कोई जगह है या नहीं ।

महेश, तुम फिर मज़ाक करने लगे। विदेश घुमाने का सपना दिखाकर लगे स्वदेश घुमाने।

मोनिका, देखो, हम तुम्हारी इन ख़ूबसूरत आँखों पर पट्टी बाँध देंगे। मथुरा या मनाली घुमा लायेंगे और फिर दिल्ली में पट्टी खोल देंगे। तुम बोल देना कि मोरक्को से आ गई । वैसे भी अब बैग में सिक्योरिटी टैग ख़त्म हो गया है। किसी को पता भी नहीं चलेगा।

और पता चल गया तो मेरे क्यूटी महेशू …

तो होम मिनिस्ट्री की तरह बोल देंगे, जाँच करा रहे हैं। अगर नहीं जाने की बात साबित हुई तो माफी मांग लेंगे।

( लप्रेक: लव इन टाइम ऑफ़ ज़िब्राल्टर बीइंग पार्ट आफ इंडियन सीमा )!

साभार- एनडीटीवी पत्रकार रवीश कुमार की फेसबुक वॉल से

Loading...
loading...