केरल के तिरुवनंतपुरम में मत्था टेकने गए पगडीदारी सिख युवकों को मंदिर में दाखिल न होने देने का मामला सामने आया है। सिख युवकों ने मंदिर के बाहर से ही सोशल मीडिया फेसबुक पर एक वीडियो पोस्ट किया। सिख युवकों ने कहा कि वो बड़ी श्रद्धा  भावना के साथ मंदिर में आये थे। लेकिन मंदिर के गेट पर ही उन्हें रोक लिया गया और कहा गया कि ‘सरदार नॉट allowed ‘ .

सिख युवकों ने वीडियो में कहा कि वो अपनी फ्लाइट के टाइम से कुछ टाइम पहले ख़ास इस मंदिर के दर्शन करने आये थे। हमने यहाँ आ कर ख़ास तौर पर केरल की ख़ास धोतियों को भी खरीदा लेकिन उनकी पगड़ी को देखकर उन्हें मंदिर में घुसने से रोक दिया गया।

सिख युवकों को अंदर न जाने देने पर कुछ और लोगों ने भी मंदिर में प्रवेश करने से मना कर दिया।

सिख युवकों ने आगे कहा कि, इस तरह के बर्ताव से उनकी भावनाओं को ठेस पहुंची है। अमृतसर के दरबार साहिब (हरमिंदर साहिब) में किसी भी धर्म का व्यक्ति अंदर जा सकता है। लेकिन एक हिन्दू मंदिर में सिखों को अंदर नहीं जाने दिया जाता। जबकि लोग केवल एक धोती पहन कर नंगे बदन के साथ ही मंदिर के अंदर जा रहे थे।

हम ये वीडियो भी शेयर कर रहे है हालांकि वीडियो को पंजाबी भाषा में शूट किया गया है लेकिन आपको घटना के बारे में समझने में तकलीफ नहीं होगी ।

Loading...
loading...