अहमद पटेल ने हाई वोल्टेज पॉलिटिकल ड्रामे के बीच अपनी राज्यसभा सीट पर जीत दर्ज कर ली है। वोट की गिनती के दौरान कोई सोशल मीडिया पर कमेन्ट्री करता नज़र आया तो कोई इस जीत को गाँधी के बताये रास्ते पर चलने की जीत बता रहा है।

इसी बीच काग्रेस के महासचिव और लोकसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट करते हुए अहमद पटेल को जीत की बधाई दी है| सिंधिया ने लिखा गांधीजी ने कहा था “सत्य परेशान हो सकता है, पराजित नहीं।

दरअसल अहमद पटेल की ये जीत कांग्रेस के लिए काफी मायने रखती है। बीजेपी और कांग्रेस की ओर से इस चुनाव को लेकर जिसतरह का हाई वोल्टेज  ड्रामा बनाया गया शायद ही भारत के इतिहास में किसी राज्यसभा चुनाव में ऐसा नजारा देखा गया हो। दो विधायकों के वोट रद्द होने का अहमद पटेल को खास फायदा हुआ है, अगर वोट रद्द ना होता तो उनका जीतना मुश्किल था। पटेल केवल आधे वोट के अंतर से जीत पाए हैं| उन्हें मात्र .48 वोट अधिक मिले हैं।

अहमद पटेल को चुनावी मैदान में बीजेपी के बलवंत सिंह टक्कर दे रहे थे,वहीँ सोशल मीडिया पर लोग पटेल की जीत को लोकतंत्र की जीत मान रहे है। पत्रकार सागरिका घोष ने ट्वीट करते हुए लिखा कि वेल डन  चुनाव आयोग,आयोग  ने अपना काम बेहतर तरह से किया और लोकतंत्र किसे कहते ये दिखा दिया।

वहीँ कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए लिखा गांधी की धरती गुजरात में सत्य की जीत हुई।
भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगाँठ पर सबसे बेहतरीन तोहफ़ा।
अहंकार हारा,सच्चाई जीती।

 

कांग्रेस की ख़ुशी का अंदाज़ा सुरजेवाला के ट्वीट से लगाया जा सकता है। काग्रेस के लिए इस जीत के मतलब क्या है

 

काउंटिंग के वक़्त कमेन्ट्री कर थे कुमार विश्वास  

वहीँ वरिष्ट पत्रकार शेखर गुप्ता ने ट्वीट करते हुए चुनाव आयोग को मजबूत लोकतंत्र की जीत बतायी।

बता दे कि दो विधायकों के वोट को लेकर बीजेपी और कांग्रेस ने तीन बार चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया। और आखिरकार चुनाव आयोग ने अपने फैसले में साफ किया कि कांग्रेस के दोनों विधायकों ने जन प्रतिनिधि कानून का उल्लंघन किया है। इसी के चलते दोनों विधायकों का वोट रद्द होगा| चुनाव आयोग का ये फैसला कांग्रेस के लिए बड़ी राहत और बीजेपी के लिए झटका बनकर सामने आया है।

Loading...
loading...