भारत एक ऐसा देश है, जहां शिक्षकों को माता-पिता से बढ़कर समझा जाता है। लेकिन, दिल्ली के श्री राम कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स (एसआरसीसी) में हुई घटना इस बात को झुठला देती है। दिल्ली पुलिस ने एसआरसीसी के एक छात्र के खिलाफ़ एक शिक्षक पर हमला करने के लिए एफ़आईआर दर्ज की है। छात्र के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 323, 341 और 506 के तहत एफ़आईआर दर्ज कराई गई है।

 

श्री राम कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स                                                                      (Image Source: Merinews)

दरअसल, शुक्रवार की शाम को करीब 5 बजे, एसआरसीसी से ग्लोबल बिजनेस ऑपरेशंस (जीबीओ) में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कर रहे छात्र प्रदीप फोगट ने कॉलेज के पार्किंग में अपने शिक्षक अश्वनी कुमार को कई थप्पड़ मारे और गालियां दी क्योंकि उन्होंने उसे परीक्षा में ज़ीरो नंबर दिया था।

इस मामले में कॉलेज के प्रिंसिपल आर. पी. रुस्तगी ने बताया,

“वह क्लास में नहीं आता था इसीलिए सभी शिक्षकों ने उसे इंटर्नल एग्ज़ाम में ज़ीरो नंबर दिया। पिछले सेमेस्टर में वो सभी विषयों में फ़ेल था और इस सेमेस्टर में तो वो किसी परीक्षा में बैठा ही नहीं। ऐसे में एक अध्यापक क्या कर सकता है? उसने शायद सोचा था कि वह शिक्षकों को धमकी देकर अपना रास्ता निकाल सकता है, लेकिन चीजें इस तरह से काम नहीं करती हैं। इससे पहले भी उसने फ़ोन पर अश्वनी कुमार को धमकी दी थी”।

जबकि इस मामले में प्रदीप फोगट ने अश्वनी कुमार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि,

“मेरी उपस्थिति सामान्य थी, लेकिन उन्होंने इस साल मेरा प्रवेश पत्र रोक दिया। मैं शुक्रवार को अश्वनी सर से आराम से बात कर रहा था और उनसे मेरा भविष्य ख़राब न करने लिए कह रहा था। लेकिन, उन्होंने कहा कि वो मुझे पास नहीं होने देंगे। फिर मैंने उन्हें धक्का दे दिया, तीन थप्पड़ मारे और पेट में एक लात मारी। उन्होंने मेरे सामने और कोई रास्ता नहीं छोड़ा था”।

फोगट ने बताया,

“जब पिछले साल मैंने कॉलेज इलेक्शन में हिस्सा लिया था, तभी से अश्वनी सर को मुझसे दिक्कत थी। वो मुझसे नफ़रत करते हैं क्योंकि मैं लॉ फैकल्टी से था और मेरा संबंध अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) से है। वह नहीं चाहते कि कोई भी छात्र राजनीति में सक्रिय रहे। उन्होंने मुझे इंटर्नल एक्जाम में ज़ीरो नंबर दिया और बाकी शिक्षकों से भी ऐसा करने को कहा”।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से फोगट के संबंध पर एबीवीपी के राज्य सचिव ने कहा है कि, फोगट हमारे संगठन से नहीं है।
फोगट 2015 में दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डीयूएसयू) का केंद्रीय खेल सचिव था और उसने दिल्ली विश्वविद्यालय के लॉ फैकल्टी से एलएलबी किया हुआ है।

 

Article Source: Theindianexpress

Loading...
loading...