देशभर में चल रहे अलग-अलग छात्र आंदोलनों में एक बात कॉमन है कि वहां का प्रशासन गुंडई पर उतारू है। जेएनयू में तो छात्रों का आंदोलन चल ही रहा है अब लखनऊ यूनिवर्सिटी में भी छात्र और प्रशासन आमने -सामने हैं।

प्रशासन की मनमानियों के खिलाफ तो एक लंबे समय से आंदोलन चल रहा था लेकिन अभी हॉस्टल के लिए आंदोलन कर रहे छात्र-छात्राओं के साथ प्रशासन की धमकी और दुर्व्यवहार का मामला सामने आया है।

आंदोलन की अगुवाई कर रही लखनऊ विश्वविद्यालय की छात्रा पूजा शुक्ला कहती हैं ‘छात्रों का आंदोलन विश्वविद्यालय में जारी है, हॉस्टल लेकर रहेंगे ।

प्रॉक्टर साहब गुंडों की तरह बोल रहे हैं कि तुम को यहां से उठवा लेंगे।

इससे पहले हॉस्टल के लिए धरना कर रहे छात्रों को कल गिरफ्तार कर लिया गया था।

दरअसल इन आंदोलनकारियों की मांग है कि आचार्य नरेंद्रदेव हॉस्टल को तुरंत खोला जाए। इसी मांग को लेकर कल उन्होंने वीसी दफ्तर का घेराव किया था।

छात्र छात्राओं का आरोप है कि पहले तो दाखिले की फीस बढ़ाई गई और अब हॉस्टल बंद करके दूर दराज से आने वाले छात्रों को पढ़ने से रोका जा रहा है । इसके साथ ही छात्र आरोप लगाते हैं कि कुलपति एसपी सिंह संघ और भाजपा के इशारे पर काम कर रहे हैं जिसके तहत वाजिब मांग कर रहे छात्रों का दमन किया जा रहा है।

गौरतलब है कि इससे पहले योगी का विरोध करने के मामले में पूजा शुक्ला को गिरफ्तार किया गया था और उन्हें जेल में भी रहना पड़ा था। इस प्रकरण में भी प्रशासन उनपर शिकंजा कसने की कोशिश में है।

Loading...
loading...