बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव अपमान यात्रा लेकर बिहार की नब्ज टटोलने निकले है। तेजस्वी को माँ राबड़ी देवी ने तिलक लगाकर “जनादेश अपमान यात्रा” के लिए रवाना किया। जैसे-जैसे काफिला बड़ा लोगों का जमावड़ा भी बढ़ता गया।

तेजस्वी ने कहा कि,’जनता के प्यार और समर्थन के आगे नतमस्तक हूँ। धन्यवाद बिहार की न्यायप्रिय जनता को, बिहार की न्यायप्रिय जनता में ग़ज़ब आक्रोश है।

नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए तेजस्वी यादव बोले कि, ‘दिन-दहाडे नीतीश कुमार ने जनादेश की पीठ में ख़ंजर घोंपा। जनता इस विश्वासघात का करारा जवाब देगी। ये बुलाई गई नहीं नीतीश कुमार जी द्वारा ठगी हुई जनता है। इसी जनता द्वारा दिए गए अपार जनादेश पर नीतीश कुमार ने दिन-दहाड़े डाका डलवा दिया।

 

वहीँ अच्छी-खासी भीड़ जुटने से तेजस्वी के चेहरे पर मुस्कान देखने को मिली। उन्होंने ट्वीटर पर लिखा ‘सड़क किनारे के सारे के सारे गाँव जोश और ज़ुनून के साथ मैदान में है। जनादेश का अपमान जनता नहीं सहेगी। हिम्मत है तो आओ चुनावी मैदान में , जनता में बेहद आक्रोश है।नीतीश जी मे हिम्मत है और अपने निर्णय पर गुमान है तो इस महीने बिहार घूम कर देख ले, अंतरात्मा का दर्शन भी हो जाएगा।

लोगो के मिल रहे समर्थन पर तेजस्वी बोले “जनादेश अपमान यात्रा” के लिए चम्पारण जाने के क्रम में जगह-जगह मिल रहे प्रेम व समर्थन का शुक्रगुज़ार हूँ।कारवाँ अभी मुज़फ़्फ़रपुर पहुँचा है। सात घंटे हो गए है अभीतक चम्पारण नहीं पहुँचा हूँ।

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ‘जनादेश अपमान यात्रा’ का आरम्भ मोतिहारी से किया। तेजस्वी के भाई तेजप्रताप यादव भी घर से उनके साथ ही निकल गए हैं।

मीडिया को यात्रा शुरू करने से पहले उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने संघमुक्त भारत की बात कही थी लेकिन वक्त आते ही बदल गए और अब जिनका विरोध करते थे उनकी ही गोद में जा बैठे हैं। नीतीश कुमार तो रणछोड़ हैं।

Loading...
loading...