उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में एक साथ 11 लोगों की मौत हो गई। इस सामूहिक हत्याकांड ने परिवार के मुखिया से लेकर पूरे परिवार को एक साथ लील लिया। लेकिन राज्य पुलिस इसके पीछे परिवार के मुखिया को जिम्मेदार मानकर इस केस को बंद करना चाहती है।

जबकि अमेठी कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी का लोकसभा क्षेत्र है। इसके अलावा बीजेपी मंत्री स्मृति ईरानी व आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता कवि कुमार विश्वास भी यहां से चुनाव लड़ चुके हैं।

और भारतीय कांग्रेस की खानदानी लोकसभा सीट होने की वजह से जिम्मेदारी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की भी बनती है।

इतना ही प्रदेश के मुख्यमंत्री व पूर्व मुख्यमंत्री होने के नाते उतनी ही जिम्मेदारी अखिलेश यादव व बीएसी सुप्रीमो मायावती की भी बनती है।

अमेठी से इन पांच राष्ट्रीय स्तर के नेताओं का रिश्ता जुड़ता है।

एकसाथ एक घर से 11 लोगों की सामूहिक हत्या कर दी गई। इन पांच नेताओं में से ऩा किसी को इतनी फुर्सत की उस परिवार को श्रदांजलि दे देते न इतनी फुर्सत की उनके लिए न्याय की मांग करते हुए कड़ी कार्यवाही के निर्देश के लिए आवाज उठा देते।

फेसबुक पर लोगों ने इस तरह के पोस्ट लिखे हैं जिसमें इऩ पांचों नेताओँ से सवाल किए जा रहे हैं।

 

ज़ोया खान ने अपने फेसबुक वॉल पर लिखा कि,   

Smriti Zubin Irani जी यह आप के लोकसभा का काण्ड हैं जहाँ से आप चुनाव लड़ी थी क्या अब आप की जिम्मेदारी नहीं वहां की हालत देखने सुनने की?

Rahul Gandhi जी आप का खानदानी लोकसभा है आप लोग सत्ता में रहो या विपक्ष में मौन ही रहते हो मुस्लिम मुद्दों पर ?

Sonia Gandhi जी आप तो UPA चीफ रही हैं सत्ता आप के घर खेती है आप का फ़र्ज़ नहीं अमेठी सामूहिक हत्या कांड की जांच करवाने की मांग करना और सरकार पर दबाव बनाना ?

Akhilesh Yadav जी आप तो अभी सत्ता और कुर्सी की लड़ाई में उलझे हो पर ज्ञात रहे चुनावी बिगुल बज चुका है आप ने 5 सालों में तीर नहीं मार दिया विकास के नाम पर जो आप अजेय हो गये वैसे भी आप मूस्लिम मुद्दों से खाने में नमक का जायका बढाने की तरह इस्तेमाल किये हो आगे की खामोशी तय करेगी आप किस राह पर हो ?

Mayawati जी आप से तो उम्मीद रखना ही बेकार है आप को जब सत्ता मिलेगी तब आप कुछ करेंगी औऱ मूस्लिम मसायल से आप भी नफरत करती हैं आप ने 5 साल अखिलेश सरकार में विपक्ष की भी भूमिका नहीं निभा पाई। और ना किसी मुस्लिम मसायल पर खुलकर स्टैंड लिया आप ने अच्छा किया ?

Dr. Kumar Vishwas जी आप भी यहीं से लोकसभा का चुनाव लड़े थे क्या आप को भी राजनीति की गंध लग गयी आप लोग तो राजनीति बदलने आए थे ना या खुद ही बदल गए क्या आप अमेठी की सामूहिक हत्याकांड की जाँच की मांग नहीं कर सकते हैं ?

एक साथ एक ही घर से उठे 11 जनाज़े।  रो रहा था अमेठी का पूरा महोना गाँव।  हर तरफ जैसे मातम पसरा था  लेकिन दूसरी तरफ एक नहीं पूरे 11 लोगों की हत्या पर हर तरफ इतनी खामोशी की जैसे किसी को खबर तक न हो।

आखिर क्यों ?

क्या इसलिए के मरने वाले अल्पसंख्यक हैं ? अगर न होते हो अबतक CBI जांच की मांग हो चुकी होती।

चूंकि राज्य में सेक्यूलर सरकार है और इसके 69 विधायक मुस्लिम हैं  लेकिन लोग सही कहते हैं कि सारे के सारे खामोश ही हैं जो या तो जगह और समुदाय देखकर आवाज़ उठाते हैं या फिर सरकार देखकर।
मैंने जो इन 11 लोगों की खबर सुनकर कहा था वही इन सब के लिए भी कहने का दिल करता है ।