#Amarnath यात्रियों से भरी बस पर जब गोली चल रही थी तो ड्राइवर सलीम जान पर खेल बस को भगाए जा रहा था। ड्राइवर की सूझ बूझ और साहस से कई जाने बच गईं।

मैं बस पर हमले में दिख रहे साजिश के एंगल नहीं बताऊंगा। आप खुद से पढ़ कर जान लीजिए। बस इतना बताऊंगा कि ड्राइवर का नाम सलीम था और ये सैकड़ों बार बताऊंगा।

क्योंकि एक सशक्त भारत के लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि ड्राइवर का नाम सलीम था। घृणा फैला कर देश बांटने की कोशिश में लगे आतंकियों और दंगाइयों के लिए यह जानना जरूरी है कि ड्राइवर का नाम सलीम था।

दूसरा अंश

#Amarnath फिर निर्दोष लोग आतंक की भेंट चढ़ गए। कलेजा फटता है क्योंकि वह भी किसी के घर के सदस्य होंगे। इतनी संवेदनशील यात्रा की सुरक्षा के साथ ऐसा खिलवाड़? सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में यात्री बस को आने से किसे रोकना था? अब इन मौतों पर भी क्या राजनीति करेगी केंद्र और राज्य की सरकार?

आतंक पर केवल बयानबाजी ही होगी या इस नासूर का कोई इलाज भी होगा? अगर राहुल गांधी को ट्रोल करने और फोटोशॉप तस्वीरों से समाज का माहौल बिगाड़ने से फुरसत मिल गयी हो तो सर कुछ कीजिये।

  • अमीश राय
Loading...
loading...