देश के उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने राज्यसभा टीवी में दिए गए अपने इंटरव्यू में देश में बढ़ रही असहनशीलता और मुस्लिम समाज में बढ़ रही घबराहट और असुरक्षा की भावना पर चिंता ज़ाहिर की|

साथ ही उन्होंने भीड़ की ओर से लोगों को पीट-पीटकर मार डालने की घटनाओं, घर वापसी और तर्कवादियों की हत्याओं का हवाला देते हुए कहा कि यह ‘भारतीय मूल्यों का कमज़ोर हो जाना’ है|

उन्होंने आगे कहा कि इससे भी ज्यादा परेशान करने वाली बात किसी नागरिक की भारतीयता पर सवाल उठाया जाना है| उन्होंने इसे ‘परेशान करने वाला विचार’ बताया|

उन्होंने कहा कि वो अपनी चिंताओं से प्रधानमंत्री को भी अवगत करा चुके हैं और अन्य केंद्रीय मंत्रियों के सामने भी ये मुद्दा रख चुके हैं|

तीन तलाक पर भी रखे विचार

तीन तलक पर बात करते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि. ये एक सामाजिक विचलन है ना की धार्मिक ज़रूरत| उन्होंने कहा कि पितृसत्ता, सामाजिक रीतिरिवाज़ इसमें घुसकर हालात को ऐसा बना चुके है जो अत्यंत अवांछित है| उन्होंने कहा कि अदालतों को इस मामले में दखल नहीं देना चाहिए, क्योंकि सुधार समुदाय के भीतर से ही होंगें|

गौरतलब है कि आज ही उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी का दूसरा कार्येकाल पूरा होने जा रहा हैं|

 

Loading...
loading...