पूरा देश अमरनाथ यात्रियों की मौत के बाद सदमे में है। आतंकियों के नापाक मंसूबों ने हिंदुस्तान की पवित्र यात्रा पर हमला किया है। देशभर में जगह-जगह शोक सभाएं आयोजित की जा रही हैं।

एक आवाज़ में पूरा देश इसकी कड़ी निंदा कर रहा है। तमाम राजनेताओं से लेकर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कड़ी निंदा की है। सरकार की सुरक्षा पर सवाल उठाए हैं। करीब 17 साल बाद इतना दर्दनाक हमला हुआ है। पूरा देश शोक में है लेकिन सरकार चलाने वाले कॉफी टेबल बुक पर चर्चा कर रहे हैं।

आज राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मोहन भागवत औऱ भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक किताब का उद्घाटन करने पहुंचे। जिसके लिए कॉफी टेबल बुक प्रोग्राम रखा गया। यह किताब विंदेश्वर पाठक ने लिखी है।

लेकिन सवाल उठता है क्या यह समय ठीक है इस तरह की चर्चाओं के लिए ? क्या जब देश शोक में डूबा हो तो कॉफी टेबल बुक पर किताब उद्घाटन करने की क्या बात बनती है।

वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने सवाल उठाते हुए लिखा कि, ये है इनकी देशभक्ति!!! देश अमरनाथ हमले के शोक में डूबा है और मोहन भागवत और अमित शाह आज कॉफ़ी टेबल बुक का उद्घाटन कर रहे हैं। कहीं ऐसा न हो पूरा देश एक दिन ऐसे राजनेताओं से सवाल करने लगे। क्यों आज आप देश से नहीं खड़े है ? क्या सारी संवेदनाएं खत्म हो चुकी है ?

आपको बता दें कि, 10 जुलाई को जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में आतंकियों ने अमरनाथ यात्रियों से भरी बस पर हमला किया। जिसमें 6 श्रद्धालुओं की मौत व दो दर्जने से ज्यादा लोग बुरी तरह घायल हो गए थे।

Loading...
loading...