बीते शुक्रवार पाकिस्तान के स्नाइपर की तरफ की गई फायरिंग में बीएसएफ के जवान गुरनाम सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए। उनका जम्मू के अस्पताल में इलाज चल रहा है।  मगर उनकी हालत अभी खराब है। वो अभी जिंदगी और मौत के बीच लड़ाई लड़ रहे हैं।

ऐसे में गुरनाम के घायल होने पर उनकी बहन गुरजीत सिंह ने सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार उन्हें इलाज के लिए विदेश क्यों नहीं भेजती? मंत्री जा सकते हैं लेकिन एक सैनिक क्यों नहीं?

गुरजीत ने कहा कि, जब मंत्री अपने कंधें का इलाज करने विदेश जा सकते है, तो उनके भाई को क्यों नहीं भेजा जा सकता है ? उन्होंने कहा हम अपने भाई की मौजूदा हालत से बहुत दुखी है। विदेश से डोक्टरों की टीम क्यों नहीं बुलाई जा सकती?

ये भी पढ़ें : मोदी लाहौर जाकर बिरयानी खाएं पर पाकिस्तानी कलाकार भारत न आएं- कांग्रेस नेता 

बता दे कि पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर के हीरानगर सेक्टर में बोबिया पोस्ट पर गोलीबारी की थी। इसमें गुरनाम घायल हो गए थे, 26 साल के गुरनाम सिंह एक बहादुर बीएसएफ के जवान हैं और छह साल पहले सीमा सुरक्षा बल में शामिल हुए थे। अपने परिवार में वो इकलौते कमाने वाले हैं। फायरिंग से एक दिन पहले उन्होंने अपनी बहन गुरजीत कौर को बताया था कि कैसे उन्होंने और उनके साथियों ने घुसपैठ के प्रयास को नाकाम कर दिया था।

ये भी पढ़ें : बीजेपी को सांप्रदायिक पार्टी बताने वाली रीता जब BJP में हुईं शामिल तो यूज़र्स ने खूब उड़ाया मज़ाक