एकतरफ देश में बेरोजगारी के आंकड़े दूसरी तरफ प्रधानमंत्री का ये बयान दोनो काफी चिंताजनक है। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर प्रधानमंत्री मोदी ने धन्यवाद भाषण देते हुए कहा कि, आज देश का मध्यमवर्गीय परिवार नौकरी की भीख नहीं मांगता है।

इस बयान के कई मतलब निकाले जा रहे हैँ। एकतरफ जब देश में नौजवान नौकरी मांग रहे हैं। पूरे देश में बेरोजगारों की भीड़ ने हंगामा मचा रखा है।

इस समय में प्रधानमंत्री का यह बयान काफी चिंताजनक बताया जा रहा है।

सोशल यूजर अमीश राय ने लिखा कि, यानी अब तक देश का नौजवान नौकरी की भीख माँगता था? कितना बेशर्म नेतृत्व है देश का. क्या करेंगे, हमने ही चुना है. थोड़ा और झेलिए

इस पोस्ट पर तमाम लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए प्रधानमंत्री के इस बयान को शर्मनाक बताया।

K D Tiwari सही कह रहे हैं….#हमने_ही_चुना है , ये पता होता तो कोख़ में मार दिया जाता , ये बयान तो नही सुनने को मिलता।

राहुल श्रीवास्तव मोदी जी के हिसाब सर हर मध्यमवर्गीय युवा के पास नौकरी है और नही है तो आराम से मिल जाती है। सभी खुशहाल है । हरि बोल।

Loading...
loading...