गोरखपुर हादसे के बाद जनता मीडिया और विपक्षी पार्टिया योगी के जवाब का इंतजार कर रही थी। वहीँ जब योगी का बयान आया तो उन्होंने हादसे की वजह गंदगी से जोड़ दी।

इसी बयान पर आचार्य प्रमोद ने योगी पर तीखा प्रहार करते हुए लिखा कि खुले में शौच जाना,बच्चों की मौत का एक बड़ा कारण है.लेकिन योगी जी,कुम्भ के मेले में हज़ारों साधु खुले में ही जाते हैं,फिर वो क्यूँ नहीं मरते।

दरअसल सीएम योगी ने इलाहाबाद में गंगा ग्राम सम्मेलन में बोलते हुए गोरखपुर हादसे पर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि ‘इंसेफेलाइटिस की बीमारी नई नहीं है, ये 1978 से ही है। अगर पूर्वी उत्तर प्रदेश के मासूम असमय काल के गाल में समा रहे हैं, तो कहीं न कहीं इसके पीछे गंदगी है, खुले में शौच है।

उन्होंने कहा कि स्वच्छता को लेकर जनता में जो जागरुकता होनी चाहिए थी, उसका अभाव है। और यही कारण है कि जिस देश का बचपन असमय मौत के मुंह में चला जाए, उसका भविष्य क्या होगा।

इस संकट पर उन्होंने आगे कहा कि एक संकट है, एक चैलेंज है सामने, उसका समाधान भी निकला है। इसके आगे उन्होंने एक दिलचस्प बात कही कि सरकारें समस्या नहीं हो सकतीं, अगर सरकार अपने आप में एक समस्या है, तो उसे रहने का अधिकार नहीं है।

बता दे कि सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक यूपी सरकार की थू-थू हो रही है। वहीं ट्विटर पर #ModiMustSpeak ट्रेंड कर रहा है। ऐसे में मुख्यमंत्री योगी खुले में शौच जाना, बच्चों की मौत का एक बड़ा कारण बताना संकट पैदा कर सकता है।

फोटो साभार- ANI

Loading...
loading...