गोरखपुर बीआरडी अस्पताल में 60 बच्चों से ज़्यादा मौत के मामले में नई बातें सामने आई हैं| उत्तरप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि 9 अगस्त को मुख्यमंत्री आदित्यनाथ बीआरडी अस्पताल का दौरा करने आए थे|

आगे सिद्धार्थ नाथ ने कहा कि अगस्त में बच्चों की मौत होती है| जिस समय पूरा देश इस हादसे में बच्चों की मौत का दुख मना रहा है उस समय उसी राज्य के स्वास्थ्य मंत्री का इतने बड़े हादसे को एक सामान्य प्रक्रिया के तौर पर बताना दुखद है| ऐसी असंवेदनशील टिप्पणी राज्य की सत्ता में बैठी भाजपा की मानसिकता को दिखाती है|

अब सवाल ये उठता है कि जब आदित्यनाथ अस्पताल के दौरे पर आए थे तो उन्होंने अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी पर कोई पूछताछ क्यों नहीं की ?

जबकि ऑक्सीजन सिलेंडर सप्लाई करने वाली कंपनी लगातार भुगतान के बारे में अस्पताल को लिख रही थी|

 

इसके अलावा ये मामला ख़बरों में भी बना हुआ था|

बता देें कि पिछले महीने जुलाई में ही हिंदुस्तान अख़बार ने इस ख़बर को प्रकाशित किया था और लिखा था कि ऑक्सीजन सिलेंडर का भुगतान ना होने के कारण अगर सप्लाई रोकी गई तो अस्पताल को गंभीर समस्या का सामना करना पड़ सकता है|

Loading...
loading...