sonia gandhi
Sonia Gandhi
गिरीश मालवीय

अरनब का फिलहाल कोई इलाज नही है वो भी एक तरह का नोवेल कोरोना वायरस है संक्रमण फैलाने वाला नोवेल कोरोना वायरस……..इसलिए उसकी बात करना उसके कृत्यों को बढ़ावा देना होगा, …………शास्त्रों में लिखा भी है ‘Any Publicity is Good Publicity’……..

आप ट्विटर पर उसके विरुद्ध अभियान चलाए या उसके विरुद्ध अपने राज्यों में एफआईआर करे उसका कुछ बिगड़ने वाला नही है! ट्विटर पर उसके समर्थन में खड़ी ऑर्गेनाजाइज्ड सेना आपकी बिखरी हुई सेना से कही ज्यादा सक्षम ओर कही ज्यादा विशाल है, आप नोटिस भेजोगे वो अच्छा वकील भेज देगा…… केंद्र सरकार तो उसके साथ है ही उसका कुछ भी बिगड़ने वाला नही है!

यह बात वो अच्छी तरह से जानता है उसकी पार्टी को 301 सीट मिली है लोकसभा में….. एक साल भी पूरा नही हुआ है इस बात को…… अभी चार साल ओर उसे दर्शकों की छाती पर बैठकर मूँग दलना है……..वो जानता है कि हफ्ते पंद्रह दिन में यह बात आई गयी हो जाएगी……

आप क्या सोचते है! उसने ऐसा बिना सोचे समझे बोला होगा? बहुत शातिराना तरीके से उसने बहस का रुख अपनी तरफ मोड़ने की कोशिश की है अभी खबर आयी है कि रात में अरनब ओर उसकी पत्नी पर हमला हुआ है? अब आप देखिए कैसे बैकफुट पर जाता है उसके विरुद्ध बनाया गया माहौल!

ऐसे लोगो से लड़ने का सबसे अच्छा तरीका हमे गाँधी जी सिखा गए हैं कोई एक मारे तो दूसरा गाल आगे कर दो……मेरे विचार से सोनिया गांधी को आज आगे बढ़कर यह कहना चाहिए कि ‘अरनब मेरे भाई मुझे जितना भी भला बुरा कहना है कह लो, बस एक बार जरा उन मजदूरों की बात कर लो आठ आठ दिन तक पैदल चल कर घर पुहंचने से पहले ही सड़क पर दम तोड़ गए, उन गरीबो की बात कर लो जिन्हें एक वक्त का खाना भी तीन दिन में एक बार नसीब हो रहा है, एक बार उस बीमार की बात कर लो जो इलाज के लिए दर दर भटक रहा है……. उसके बाद मेरे प्यारे अरनब भाई मुझे जितनी गालियां देना है अपने चैनल पर दे देना.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here