बेरोजगारी को लेकर जहां देश में बहस चल रही है वहीं दूसरी तरफ सरकारी कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) से एक चौंकाने वाली खबर आ रही है।

अंग्रेजी अखबार डेक्कन हेराल्ड के मुताबिक, BSNL ने चुनाव बाद अपने 54 हजार 451 कर्मचारियों को हटाने की तैयारी कर ली है और चुनाव सम्पन्न होने के बाद इन कर्मचारियों को घर का रास्ता दिखाया जा सकता है।

आईआईएम अहमदाबाद ने दिया है सुझाव

आंकड़ों के मुताबिक साल-2018 तक बीएसएनएल में कर्मचारियों की संख्या 1 लाख 74 हजार 312 थी। एक अनुमान के मुताबित बीएसएनएल के कर्मचारियों की यह संख्या कुछ प्राइवेट कंपनियों से पांच गुना अधिक है। कर्मचारियों के अधिक संख्या के कारण बीएसएनएल पर अधिक वित्तीय भार है।

BSNL महिला कर्मचारी का छलका दर्द, बोलीं- मेरे पास बच्चों को खाना खिलाने के लिए भी पैसे नहीं हैं

जिसका इसका परिणाम यह है कि वर्ष-2019 के होली से कुछ दिन पूर्व तक कम्पनी अपने कर्मचारियों को वेतन तक नहीं दे पाई थी। कम्पनी को वित्तिय संकट से उबारने के लिए सरकार ने आईआईएम अहमदाबाद से शोध कर सुझाव मांगा था जिसके बाद आईआईएम ने कई सुझाव दिए थे। इन सुझावों में 54 हजार 451 कर्मचारियों को हटाने का सुझाव प्रमुख था।

1600 करोड़ की होगी बचत

आईआईएम अहमदाबाद ने बीएसएनएल कर्मचारियों को वीआरएस अर्थात वोलिंटरी रिटायरमेंट ऑफर का सुझाव दिया है। यह वीआरएस 50 साल से अधिक उम्र के कर्मचारियों के देने का सुझाव दिया है। आईआईएम के अनुसार इतने कर्मचारियों को वीआरएस देने पर कम्पनी को साल में 1 हजार 671 करोड़ से 1 हजार 921 करोड़ तक की बचत होगी।

कर्मचारियों की सुविधाएं हुई बंद

बीएसएनएल के प्रबंध निदेशक अनुपम श्रीवास्तव के अनुसार कंपनी के कर्मचारियों का यात्रा भत्ता (टीए) बंद कर दिया गया है साथ ही मेडिकल भत्ता भी कम कर दिया है। इसके अलावा कर्मचारियों के बिजली, प्रशासनिक और अन्य सुविधाओं पर खर्च होने वाले पैसे को भी कम करने का विचार किया जा रहा है। स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति प्रस्ताव का डिटेल भी लिया जा रहा है और जल्द ही इस पर निर्णय लिया जाएगा।

अखिलेश यादव ने बताया बेशर्मी

बीएसएनएल कर्मचारियों को निकाले जाने की खबर के बाद यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बीजेपी पर हमला बोला है। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा है, “एक तरफ़ बढ़ती बेरोज़गारी तो दूसरी तरफ़ लोगों की रोज़ी रोटी पर बेशर्मी से लात मारने की साज़िश! नोटबंदी में तो ग़रीबों से हज़ारों रुपए ले लिए और अब हज़ारों BSNL के कारिंदों की नौकरी छीन लेने की तैयारी। बस इतना इंतज़ार है कि चुनाव ख़त्म हो जाए “

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here