भारतीय सेना को ‘मोदी जी की सेना’ कहने वाले यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के बयान के खिलाफ कार्रवाई के लिए पूर्व नौसेना प्रमुख एडमिरल एल. रामदास ने चुनाव आयोग से शिकायत करने का फैसला किया है।

रामदास ने कहा है कि देश के सैन्य बल किसी व्यक्ति से नहीं जुड़े हैं। उन्होंने दावा किया कि योगी आदित्यनाथ के इस गैर जिम्मेदाराना बयान से कई पूर्व और सेवारत सैनिक नाराज़ हैं।

रामदास ने कहा, ‘सैन्य बल किसी व्यक्ति से नहीं जुड़ा हुए हैं, वे देश की सेवा करते हैं। चुनाव होने तक मुख्य चुनाव आयुक्त ही बॉस हैं। मैं इस संबंध में शिकायत के लिए चुनाव आयोग जा रहा हूं।’

राष्ट्रवाद के नाम पर पांच साल से सेना का हो रहा उपयोग

लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) एच. एस. पनाग ने भी योगी के बयान पर खेद जताते हुए कहा है कि यह हैरान करने वाली टिप्पणी नहीं है, क्योंकि पिछले पांच साल में कई नेताओं ने इस तरह की टिप्पणी करते हुए राष्ट्रवाद को सैन्य बलों से जोड़ने की कोशिश की है।

आपको बताते चलें कि योगी आदित्यनाथ ने गाजियाबाद में रविवार को आयोजित एक चुनावी सभा में भाजपा के लिए प्रचार करते हुए भारतीय सेना को ‘मोदी जी की सेना’ करार दिया था।

योगी के इस बयान के बाद देश के राजनीतिक हलकों में एक विवाद पैदा हो गया है। विपक्षी नेताओं ने योगी पर हमला बोलते हुए उन पर सेना का अपमान करने का आरोप लगाया है। वहीं इस मामले में चुनाव आयोग ने गाजियाबाद के जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी से इस मामले में रिपोर्ट तलब की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here