बिहार में आई बाढ़ ने राज्य के 16 जिलों कि 73 लाख से ज्यादा आबादी को प्रभावित किया है। राज्य में आई भयंकर बाढ़ की वजह से लोगों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

राज्य सरकार द्वारा बाढ़ पीड़ितों के बचाव और राहत कार्य चलाए जाने के दावे किए जा रहे हैं लेकिन इन दावों में कितनी सच्चाई है इस बारे में कुछ कह पाना मुमकिन नहीं है।

बताया जाता है कि अब तक राहत कार्य में जुटी एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों ने लगभग 6 लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचा दिया है।

आपको बता दें कि बिहार में 73 लाख की आबादी प्रभावित हुई है लेकिन प्रशासन सिर्फ 10 लोग लोगों तक ही भोजन पहुंचा पा रहा है।

इस मामले में देश के मशहूर शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने ट्विटर पर बिहार में आई बाढ़ की एक खबर को शेयर करते हुए मोदी सरकार पर निशाना साधा है। इमरान प्रतापगढ़ी ने लिखा- “और हमारी सरकार को इनसे एनआरसी के कागज चाहिए।”

दरअसल बिहार में बाढ़ की वजह से लोगों को भारी नुक्सान हुआ है, लोगों के घर तक टूट चुके हैं और बाढ़ में सब बह गया है। ऐसे में इन लोगों के पास अब कुछ नहीं रह गया है।

सोचने वाली बात ये है कि प्राकृतिक आपदा की वजह से जिन लोगों के पास अब एनआरसी में दिखाने के लिए डाक्यूमेंट्स नहीं है उनसे सरकार क्या सलूक करेगी।

वहीं इमरान प्रतापगढ़ी द्वारा किए गए ट्वीट पर एक यूज़र ने कहा- जब माल्या के सुबूत की रक्षा पूरा सरकारी तंत्र नहीं कर सका और सबूत गायब हो गया तो बाढ में डूब रही जनता अपनी जान बचाऐगी या कागज़ सम्भाल कर रखे्गी ??

एक अन्य यूज़र ने लिखा कि सरकार को ये सब दिखाई नहीं देता है। वह सिर्फ जनता को परेशान करने के लिए कार्य करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here