14 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले में भारत के 44 जवान मारे गए थे। अब भारत ने इस आतंकी हमले का बदला ले लिया है। भारत के विदेश सचिव विजय गोखले ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बाताया कि सोमवार की देर रात करीब 3.30 मिनट बजे 12 मिराज फाइटर जेट ने तीन आतंकी कैंपों को निशाना बनाया और 19 मिनट में ऑपरेशन को अंजाम देकर आ गई।

तीनों आतंकी कैंप पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के बालाकोट, चकोट और मुजफ्फराबाद में थे। विदेश सचिव ने अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में ये भी साफ कर दिया कि यह कोई मीलिट्री ऑपरेशन नहीं था, इसे युद्ध का आगाज़ न समझा जाए। यह ऑपरेशन खासतौर से आतंकी अड्डे को निशाना बनाने के लिए था और वहां के आम नागरिकों को कोई नुकसान न पहुंचे इसका पूरा ध्यान रखा गया था।

भारत की जनता भारतीय वायुसेना को सलाम कर रही है। भारतीय वायुसेना की तरफ से इस ऑपरेशन को लेकर अभी तक कोई बयान जारी नहीं किया गया है। और न ही कोई वीडियो जारी की गई। लेकिन सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल किया जा रहा है और उसे इस ऑपरेशन का वीडियो बताया जा रहा है।

अगर पठानकोट हमले की जांच ISI से न करवाकर IAF को खुली छूट दी होती तो पुलवामा में जवान शहीद नहीं होते : अलका लांबा

अजय कुमार कुशवाहा नाम के एक ट्विटर यूजर हैं जिन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत छह केंद्रीय मंत्री और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ट्विटर पर फॉलो करते हैं। इनकी प्रोफाइल से पता चलता है कि ये अमित शाह से मिल चुके हैं और बीजेपी के बहुत करीबी हैं।

इनकी प्रोफाइल से एक वीडियो शेयर किया गया है पीएम मोदी को टैग करते हुए लिखा गया है ‘भारत ने फिर किया हमला। यह माननीय पीएम श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व का नया भारत है। भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में आतंकी कैंपों को नष्ट कर दिया और सूत्रों के मुताबिक 200-300 से अधिक आतंकवादी मारे गए हैं।…’

अब फैक्ट चेकिंग वेबसाइट ऑल्ट न्यूज ने ये दावा किया है कि नरेंद्र मोदी द्वार फॉलो किए जाने वाले अजय कुमार कुशवाहा ने जो वीडियो शेयर किया है वो ताजा ऑपरेशन का नहीं है। यानी प्रधानमंत्री मोदी और केंद्रीय मंत्रियों द्वारा फॉलो किए जाने वाले अजय कुमार कुशवाहा फर्जी वीडिया वायरल कर रहे हैं।

ऑल्ट न्यूज के मुताबिक वीडियो तीन साल पुराना है। वीडियो में जो विमान दिख रहा है वो पाकिस्तानी वायुसेना का है। दरअसल 14 अगस्त 2016 को पाकिस्तान अपने स्वतंत्रता दिवस की रात इस्लामाबाद में उड़ान भर रहा था, तब इस वीडियो को रिकॉर्ड किया गया था।

23 सितंबर 2015 को एक पाकिस्तानी यूट्यूब चैनल पर इस वीडियो को अपलोड भी किया गया था जिसे नीचे देखा जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here