राफेल डील के दस्तावेज चोरी होने पर अब पूर्व कृषि मंत्री और एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने मोदी सरकार पर संसद में झूठ बोलने का आरोप लगाया है।

पवार ने कहा कि राफेल पर संसद में देश की रक्षा मंत्री को एक घंटे का वक़्त मिला मगर उन्होंने ये संसद में बताना बेहतर नहीं समझा की राफेल के दस्तावेज मंत्रालय से चोरी हो गए है जबकि कोर्ट में कहा गया कि दस्तावेज चोरी हो गए थे।

राफेल में हुए भ्रष्टाचार को ‘राष्ट्रीय सुरक्षा’ की आड़ में छुपाया नहीं जा सकता : जस्टिस जोसेफ़

दरअसल एनसीपी प्रमुख शरद पवार वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिए पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। जिसमें उन्होंने राफेल पर ज़िक्र करते हुए कहा कि राफेल के दस्तावेज चोरी होने की सूचना कोर्ट से मिली है जोकि काफी ख़तरनाक है।

साथ ही पवार ने कहा महाराष्ट्र की बीजेपी सरकार को घेराते हुए कहा कि सुनने में आ रहा है कि छत्रपति शिवाजी महाराज मेमोरियल खोला जायेगा लेकिन अभी तक इस पर कोई काम नहीं हुआ है।

राफेल की सीक्रेट फाइलें हुई चोरी, अलका बोलीं- यूंही नहीं देश की जनता कहती है ‘चौकीदार चोर है’

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने फ्रांस से 36 राफेल जेट खरीदने की डील की जांच के आदेश देने से इनकार कर दिया था। इसके बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने जनवरी में राफेल फाइटर जेट की खरीद के मामले में सरकार को क्लीन चिट दिए जाने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट से पुनर्विचार की मांग करते हुए याचिका दायर की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here