New Zealand

भारत में तेजी से बढ़ते हुए कोरोना पॉज़िटिव के मामले भले ही दुनिया के लिए चिंता का कारण हो लेकिन हमारे देश की सरकार के लिए यह प्राथमिकता का मामला नहीं है।

जब 50,000 मामले प्रतिदिन आ रहे थे तो राम मंदिर का शिलान्यास किया जा रहा था और अब लगभग 60,000 मामले प्रतिदिन आ रहे हैं तो बीजेपी के तमाम नेता अर्थव्यवस्था की बेहतरी का झूठा प्रचार कर रहे हैं।

वहीं दूसरी तरफ दुनिया की तमाम सरकारों ने कोरोना पर लगाम लगाने में सफलता पा ली है।

न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री ने जिस तरह से कोरोना को कंट्रोल किया है उनकी जमकर तारीफ हो रही है ल।
उन्हीं से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना करते हुए पत्रकार कृष्णकांत ने फेसबुक पर लिखा-

पिछले 24 घंटे में कोरोना से 1000 से ज्यादा मौतें हुई हैं. कोरोना रोज नया रिकॉर्ड बना रहा है. अब तक 44 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं. कुल केस 22 लाख से ज्यादा हो चुके हैं. सरकार रिकवरी रेट गिना रही है. जनता भी खुश है कि काफी लोग ठीक हो रहे हैं. इसका मतलब ये हुआ कि 44 हजार मौतें कोई चिंता की बात नहीं हैं. जो मरेंगे वे भगवान भरोसे, जो बच गए वे ताली बजाएंगे.

50-60 हजार से ज्यादा केस रोज आ रहे हैं. सैकड़ों मौतें रोज हो रही हैं. सरकार कह रही है कि हम बहुत अच्छा हैंडल कर रहे हैं, ताली बजाओ. जनता ताली बजा भी रही है.

ऐसे में तो यही कह सकते हैं कि न्यूजीलैंड में 100 दिन से नए केस लगभग न के बराबर हैं तो न्यूजीलैंड बहुत खराब देश है. हमारी नाकामी ही हमारी खूबी है. हमारी मौतें ही हमारा अमरत्व हैं. एक हमीं विश्वगुरु हैं, बाकी दुनिया मिथ्या है.

अपनी ही नाकामी से हो रही अपनी ही मौतों पर गर्व करने वाला अनोखा राष्ट्र निर्मित हो रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here